कर्नाटक में कांग्रेस का एक बागी हुआ राज़ी, कहा-दूसरों से भी बात करूंगा

कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार ने बागी विधायकों के इस्तीफे को अब तक स्वीकार नहीं किया है.

News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 12:58 PM IST
कर्नाटक में कांग्रेस का एक बागी हुआ राज़ी, कहा-दूसरों से भी बात करूंगा
कांग्रेस विधायक नागराज ने यह भी आश्वासन दिया कि वह इस संबंध में अन्य बागी नेताओं से भी बात करेंगे.
News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 12:58 PM IST
कर्नाटक में पिछले एक हफ्ते से मचे सियासी घमासान के बीच अब कांग्रेस और जेडीएस के लिए राहत की खबर है. कांग्रेस के एक बागी विधायक ने अपने तेवर नरम करते दिख रहे हैं. कांग्रेस विधायक एमटीबी नागराज ने कहा कि उनके पास डीके शिवकुमार आए थे. हमने उनसे बात की है और जल्द ही इस्तीफा वापस लेने के बारे में कोई बड़ा फैसला ले लेंगे. कांग्रेस के विधायक ने यह भी आश्वासन दिया कि वह इस संबंध में अन्य बागी नेताओं से बात करेंगे.

बता दें कि कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को फैसला सुनाते हुए विधानसभा स्पीकर को मंगलवार तक कोई भी फैसला लेने से मना कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद एक बार फिर कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायकों को मनाने का दौर शुरू हो गया है. इसी कड़ी में शनिवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने कांग्रेस के बागी विधायक एमटीबी नागराज से मुलाकात की.





शिवकुमार से मुलाकात के बाद बागी विधायक ने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने हमसे इस्तीफा वापस लेने का अनुरोध किया है. इस संबंध में मैं सुधाकर राव से बात करूंगा. इसके बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है. आखिरकार मैंने दशकों तक कांग्रेस में बिताए हैं.
Loading...

वहीं डीके शिवकुमार ने कहा, 'हम साथ मिलकर रहेंगे और साथ मरेंगे, क्योंकि हमने 40 साल तक पार्टी के लिए काम किया है. हर परिवार में थोड़ी बहुत ऊंच नीच हो जाती है. हमें सबकुछ भूलकर आगे बढ़ना चाहिए. मैं खुश हूं कि एमटीवी नागराज ने हमें आश्वासन दिया है कि वे हमारे साथ रहेंगे.'

इसे भी पढ़ें :- कर्नाटक: अल्पमत में आई कुमारस्वामी सरकार, बीजेपी के पास बहुमत का आंकड़ा

गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार ने बागी विधायकों के इस्तीफे को अब तक स्वीकार नहीं किया है. अगर वह ऐसा करते हैं तो गठबंधन के 118 सदस्यों की संख्या 100 से नीचे आ जाएगी और बहुमत का आंकड़ा 113 से घटकर 105 हो जाएगा. बीजेपी के पास 105 सदस्य हैं और दो निर्दलीय उम्मीदवारों का समर्थन है, जिससे उनकी संख्या 107 तक पहुंच जाती है.

इसे भी पढ़ें :- क्या जब चाहे पद से इस्तीफा दे सकते हैं विधायक? जानें कायदे-कानून

दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार तक यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया है. कोर्ट ने खास तौर पर इस बात का आदेश दिया है कि स्पीकर रमेश कुमार बागी विधायकों को इस्तीफे और अयोग्यता के मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लेंगे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...