लाइव टीवी

लेखक का दावा- 'भगवान नहीं थे राम, कमजोरियों के थे शिकार', BJP ने कहा जेल भेजो या मेंटल अस्पताल

News18Hindi
Updated: January 2, 2019, 10:49 AM IST
लेखक का दावा- 'भगवान नहीं थे राम, कमजोरियों के थे शिकार', BJP ने कहा जेल भेजो या मेंटल अस्पताल
के. एस. भगवान

के. एस. भगवान ने कन्नड़ भाषा में लिखी किताब में दावा कियाहै कि राम कोई भगवान नहीं थे

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 2, 2019, 10:49 AM IST
  • Share this:
लेखक के एस भगवान की एक किताब ने बड़ा विवाद खड़ा कर दिया है. के एस भगवान ने कन्नड़ भाषा में लिखी किताब 'राम मंदिरा येके बेदा (क्यों राम मंदिर की नहीं है जरूरत) में ये दावा किया है कि भगवान राम कोई भगवान नहीं थे, बल्कि वो दूसरे लोगों की तरह कमजोरियों के शिकार थे. इस विवादित दावे के बाद पुलिस ने के एस भगवान पर आईपीसी की धारा 295ए के तहत मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि हिंदू जागरण वेदिके मैसुरु के जिला अध्यक्ष के जगदीश हेब्बार ने भगवान राम और गांधी का किताब में अपमानजक जिक्र करने के लिए लेखक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी.

हालांकि विवाद के बाद लेखक के एस भगवान ने इसका बचाव किया है. उन्होंने कहा कि मेरी किताब वाल्मीकि की रामायण पर आधारित है. शुक्रवार को कुछ हिन्दूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने लेखक के घर के आगे प्रदर्शन किया और उनकी गिरफ्तारी की मांग की थी. वहीं कर्नाटक बीजेपी ने भी लेखक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. उन्होंने लेखक को जेल भेजने या फिर मेंटल अस्पताल में दाखिल कराने की मांग की है.

कर्नाटक के वरिष्ठ बीजेपी नेता सुरेश कुमार ने इस मसले पर अपनी फेसबुक पोस्ट में मुख्यमंत्री पर भी निशाना साधा. उन्होंने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि राज्य सरकार के पास दो विकल्प हैं. सरकार लेखक को जेल भेजे या फिर मेंटल अस्पताल.

ये भी पढ़ें- राम मंदिर पर बोले PM मोदी- सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही अध्यादेश लाने पर करेंगे विचार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2019, 10:43 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर