कर्नाटक बीजेपी की सीएए 2019 का विरोध करने वालों को चुनौती, बताएं कितने भारतीयों पर पड़ेगा असर

कर्नाटक बीजेपी की सीएए 2019 का विरोध करने वालों को चुनौती, बताएं कितने भारतीयों पर पड़ेगा असर
बीजेपी की कर्नाटक इकाई ने सीएए 2019 का विरोध करने वाले लोगों को कानून से प्रभावित लोगों की सूची जारी करने की चुनौती दी है.

नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA 2019) के खिलाफ दिल्ली (Delhi) के शाहीन बाग से लेकर तमिलनाडु (Tamil Nadu), चेन्नई (Chennai) और बेंगलुरु में लगातार विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं. कर्नाटक (Karnataka) बीजेपी ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सीएए विरोधियों पर हमला किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 19, 2020, 5:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA 2019) के खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्‍सों में चल रहे प्रदर्शनों के बीच बीजेपी की कर्नाटक (Karnataka BJP) इकाई ने विरोध करने वालों को चुनौती दे डाली है. कर्नाटक बीजेपी ने सीएए 2019 का विरोध करने वालों से पूछा है कि वे इस कानून से प्रभावित होने वाले भारतीयों की संख्‍या बताएं. बीजेपी का कहना है कि विरोध करने वाले ऐसे एक भी व्‍यक्ति का नाम नहीं बता पाएंगे, जो इस कानून से प्रभावित होंगे. बता दें कि सीएए 2019 के खिलाफ दिल्ली (Delhi) के शाहीन बाग से लेकर तमिलनाडु (Tamil Nadu), चेन्नई (Chennai) और बेंगलुरु में लगातार विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं.

बीजेपी ने कहा- बताएं कैसे प्रभावित होंगे भारतीय
कर्नाटक बीजेपी ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सीएए विरोधियों पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया, 'प्रिय सीएए के विरोधियों! कृपया उन भारतीय नागरिकों (Indian Citizenship) की सूची पेश करें, जो इस मानवतावादी कानून से प्रभावित होंगे. साथ ही यह भी बताएं कि वे कैसे इससे प्रभावित होंगे. हम चुनौती देते हैं कि आप एक भी नाम उपलब्ध नहीं करा पाएंगे.' बता दें कि बीजेपी की नेतृत्व वाली केंद्र की एनडीए सरकार (NDA Government) ने पिछले साल नागरिकता संशोधन कानून 2019 पारित किया है. कानून के पारित होने के बाद से इसके खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन शुरू हो गए थे, जो अब तक थमने का नाम नहीं ले रहे हैं.

शाहीन बाग में करीब दो महीने से जारी है प्रदर्शन
नागरिकता कानून का सबसे ज्यादा विरोध दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheenbagh) में देखने को मिल रहा है. शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों ने 55 दिन से ज्‍यादा समय से कालिंदीकुंज (Kalindi Kunj) मार्ग बंद कर रखा है. ये मार्ग नोएडा को दिल्‍ली (Noida-Delhi) से जोड़ता है. इससे रोज दिल्‍ली से नोएडा या नोएडा से दिल्‍ली जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. वहीं, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शाहीन बाग के प्रदर्शन को लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा है कि आपको विरोध का अधिकार है, लेकिन किसी रास्‍ते को बंद करने का हक नहीं है.



दिल्‍ली के शाहीन बाग में करीब दो महीने से सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है.


तीन देशों के लोगों को दी जाएगी भारतीय नागरिकता
नागरिक संशोधन कानून 2019 में पाकिस्तान (Pakistan), अफगानिस्तान (Afghanistan) और बांग्लादेश (Bangladesh) से धार्मिक उत्पीड़न के चलते आए हिंदू, सिख, ईसाई, पारसी, जैन व बौद्ध धर्म के लोगों को भारतीय नागरिकता दिए जाने का प्रावधान है. बता दें कि इस कानून के तहत 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत आए इन समुदायों के लोगों को गैरकानूनी प्रवासी नहीं माना जाएगा. ऐसे लोगों को भारतीय नागरिकता दी जाएगी. विरोध करने वाले लोगों का कहना है कि इसमें मुस्लिमों (Muslims) को शामिल नहीं किया गया है. इसलिए ये कानून मुस्लिम विरोधी है.

ये भी पढ़ें:-

पंजाब की युवती से दो लोगों ने किया रेप, फिर मोबाइल नंबर छोड़ गए आरोपी

गडकरी को SC में बुलावा, CJI बोले-उनके पास प्रदूषण रोकने के अच्छे आइडिया हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज