येदियुरप्पा पर कर्नाटक BJP में बढ़ी हलचल, राज्य प्रभारी अरुण सिंह बोले- पार्टी एकजुट

कर्नाटक बीजेपी में हलचल बढ़ गई है. (File pic)

भाजपा प्रभारी अरुण सिंह (Arun Singh) ने नेताओं और विधायकों से अलग-अलग मुलाकात करना शुरू कर दिया है. बुधवार शाम को बेंगलुरु पहुंचे अरुण सिंह ने येदियुरप्पा और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कतील के साथ मंत्रियों से पहले ही मुलाकात कर ली.

  • Share this:
    बेंगलुरु. कर्नाटक में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (B. S. Yediyurappa) को हटाने की अटकलों के बीच राज्य के भाजपा प्रभारी अरुण सिंह (Arun Singh) ने नेताओं और विधायकों से अलग-अलग मुलाकात करना शुरू कर दिया है. बुधवार शाम को बेंगलुरु पहुंचे अरुण सिंह ने येदियुरप्पा और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कतील के साथ मंत्रियों से पहले ही मुलाकात कर ली.

    सूत्रों ने बताया कि पहले विधायकों, सांसदों और नेताओं के साथ व्यक्तिगत तौर पर मुलाकात शहर के कुमारकृपा गेस्ट हाउस में होनी थी लेकिन अंतिम क्षण में इसका स्थान बदलकर राज्य के भाजपा कार्यालय जगन्नाथ भवन में कर दिया गया. बातचीत की ‘गोपनीयता’ बनाए रखने और कोविड-19 स्थिति के मद्देनजर बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के एकत्रित होने से बचने के लिए ऐसा किया गया. नलिन कुमार कतील भी बैठक में मौजूद रहे.

    येदियुरप्पा के समर्थन वाले खेमे में गतिविधियां बढ़ गयी
    अरुण सिंह के विधायकों और नेताओं से अलग-अलग मुलाकात करने पर भी येदियुरप्पा के समर्थन वाले खेमे में गतिविधियां बढ़ गयी. सूत्रों ने बताया कि एकजुटता का प्रदर्शन करने के लिए बासवराज एस बोम्मई, जेसी मधुस्वामी और एस अंगारा समेत कई नेता तथा विधायक मुख्यमंत्री के आवास पहुंचे जबकि 10 से 15 विधायकों ने येदियुरप्पा के राजनीतिक सचिव एमपी रेणुकाचार्य के आवास पर सुबह के नाश्ते पर मुलाकात की.

    हुबली-धारवाड़ से विधायक अरविंद बेल्लाद, विधायक बासनगौड़ा पाटिल यतनाल और अन्य ने गत शाम अपनी रणनीति पर चर्चा की. ऐसा बताया जाता है कि ये विधायक येदियुरप्पा के विरोधी गुट में हैं. बताया जाता है कि पर्यटन मंत्री सीपी योगेश्वर भी उनके संपर्क में हैं.

    ‘निष्पक्ष’ होने और पार्टी के फैसले का पालन करने का दावा करने वाले विधायकों के एक अन्य गुट के अलग-अलग मुलाकात करने के अवसर का इस्तेमाल सरकार और पार्टी के कामकाज पर अपनी चिंताएं व्यक्ति करने के लिए कर सकते हैं.

    नेतृत्व परिवर्तन की आवश्यकता पर सवाल उठाया
    रेणुकाचार्य के आवास पर मुलाकात करने वाले विधायकों ने नेतृत्व परिवर्तन की आवश्यकता पर सवाल उठाया और यह कहा कि येदियुरप्पा अपना कार्यकाल पूरा करेंगे और अगले विधानसभा चुनावों में पार्टी का नेतृत्व करेंगे. उन्होंने उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की जो इस मुद्दे पर सार्वजनिक तौर पर बयानबाजी कर रहे हैं और भ्रम पैदा कर रहे हैं.

    रेणुकाचार्य ने अपने आवास पर सुबह के नाश्ते के लिए येदियुरप्पा के समर्थन वाले बड़ी संख्या में विधायकों को आमंत्रित किया था और इसके बाद एक साथ जाने और अरुण सिंह के समक्ष अपनी बात रखने की योजना बनायी थी लेकिन उन्हें अपना इरादा बदलना पड़ा क्योंकि नेतृत्व ने यह स्पष्ट कर दिया कि महासचिव केवल अलग-अलग मिलेंगे और समूहों में मुलाकात नहीं करेंगे.

    होन्नाली से विधायक ने कहा कि उन्होंने यहां अपने आधिकारिक आवास पर ग्रामीण इलाकों के विधायकों के लिए सुबह के नाश्ते का आयोजन किया था क्योंकि कोविड-19 संबंधी पाबंदियों के कारण होटल खुले नहीं थे लेकिन मुख्यमंत्री ने बीती रात उन्हें फोन करके ऐसा न करने के लिए कहा क्योंकि इससे गलत संदेश जाएगा.

    रेणुकाचार्य ने कहा, ‘हम में से केवल दस से 15 लोग नाश्ते पर मिले. सभी विधायक येदियुरप्पा के साथ हैं, केवल एक या दो लोग मुख्यमंत्री बनने के खुली आंख से सपने देख रहे हैं और उन्होंने भ्रम पैदा करने के लिए ‘सूट-बूट’ बनवा लिया है. मैं यह पूछना चाहता हूं कि क्या उन्होंने अपने दम पर जीत हासिल की है. नहीं, वे येदियुरप्पा की वजह से जीते हैं.’

    कार्रवाई की मांग
    येदियुरप्पा को पार्टी का कद्दावर और अविवादित नेता बताते और उनके नेतृत्व पर सवाल खड़े करने वालों की ‘नैतिकता’ पर सवाल खड़े करते हुए उन्होंने उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जो पार्टी को शर्मिंदा कर रहे हैं और ‘बगावती गतिविधियों’ में शामिल हैं और आगाह किया कि अगर इस पर लगाम नहीं लगाई गई तो इसका आगामी स्थानीय निकाय चुनावों और विधानसभा चुनावों में पार्टी पर असर पड़ेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.