कर्नाटक में सरकार गठन की कवायद तेज, अमित शाह से मिले BJP के दिग्‍गज नेता

कर्नाटक बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं ने गुरुवार को विकल्प पर चर्चा के लिए पार्टी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की.

News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 6:11 PM IST
कर्नाटक में सरकार गठन की कवायद तेज, अमित शाह से मिले BJP के दिग्‍गज नेता
कर्नाटक बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं ने गुरुवार को विकल्प पर चर्चा के लिए पार्टी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की.
News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 6:11 PM IST
कर्नाटक का राजनीतिक संकट अब थम गया है. एचडी कुमारस्‍वामी की सरकार विश्‍वास मत में हारने के बाद अब काफी हद तक स्थिति साफ हो गई है. बीजेपी सरकार गठन के लिए बेहद सावधानी से रणनीति बनाने में जुटी है. इसी के तहत कर्नाटक बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं ने गुरुवार को विकल्प पर चर्चा के लिए पार्टी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की.

पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में प्रदेश बीजेपी इकाई सरकार बनाने का दावा पेश करना चाहती है. लेकिन, अगले कदम के लिए केंद्रीय नेतृत्व की अनुमति का इंतजार कर रही है. जगदीश शेट्टार, अरविंद लिंबावली, मधुस्वामी, बसावराज बोम्मई और येदियुरप्पा के बेटे विजयेंद्र समेत कर्नाटक भाजपा के नेताओं ने शाह से मिलकर राज्य में घटनाक्रम तथा पार्टी के सामने मौजूद विकल्पों के बारे में चर्चा की.

सावधानी से कदम बढ़ा रही है भाजपा
विधानसभाध्यक्ष रमेश कुमार ने कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन के 15 बागी विधायकों के त्यागपत्र और उन्हें निष्कासित करने के लिए पार्टी की याचिकाओं पर अभी तक फैसला नहीं किया है. ऐसे में बीजेपी सावधानी से कदम बढ़ा रही है, क्योंकि अध्यक्ष के फैसले का अगली सरकार के भविष्य पर गंभीर असर हो सकता है.

राज्य को 31 जुलाई के पहले वित्त विधेयक भी पारित करना होगा. सूत्रों ने बताया कि महीने के अंत तक अगर सरकार इसे नहीं रख पाएगी तो विधेयक का मार्ग प्रशस्त करने के लिए राष्ट्रपति शासन लागू करना संवैधानिक बाध्यता होगी. इस वजह से भाजपा भी कानूनी विकल्पों पर परामर्श ले रही है.

कर्नाटक में स्थिर सरकार बनने की उम्मीदें कम: कुमारस्वामी

kumaraswamy, Karnataka, government, floor test, result, congress, jds, bjp, कुमारस्वामी, कर्नाटक, स्थिर सरकार, फ्लोर टेस्ट, कांग्रेस, जेडीएस, बीजेपी
कुमारस्वामी ने कहा, कर्नाटक में भविष्य में भी जारी रहेगी राजनीतिक अस्थिरता. 

Loading...

कर्नाटक में सरकार गिरने के बाद पहली बार कार्यवाहक मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने गुरुवार को कहा कि कोई भी स्थिर सरकार नहीं दे सकता. यह स्थिरता भविष्‍य में भी जारी रहेगी. कुमारस्वामी ने अपनी सरकार गिर जाने के दो दिन बाद यह बात कही. उन्होंने कहा कि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के बागी विधायकों के इस्तीफों ने राज्य को उपचुनावों की ओर धकेल दिया.

कुमारास्वामी ने कहा, 'आप या तो विकासात्मक गतिविधियों पर ध्यान दें या 20 से 25 जगहों में उपचुनाव पर, भाजपा ने एक ऐसा माहौल बना दिया है? हम यह नहीं मान सकते कि चुनावों के बाद भी सरकार स्थिर रहेगी.'

कांग्रेस का जताया आभार
कुमारस्वामी ने यह बात कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक रामलिंगा रेड्डी से मुलाकात के बाद पत्रकारों से कही. उन्होंने कहा कि उन्होंने गठबंधन सरकार के समर्थन में अपना इस्तीफा वापस लेने के लिए रामलिंगा का आभार जताया.

कुमारस्वामी के समर्थन में पड़े 99 वोट
बता दें कि 23 जुलाई को विधानसभा में हुए फ्लोट टेस्‍ट के दौरान कुमारस्वामी सरकार अल्पमत में आ गई थी. कुमारस्वामी द्वारा पेश विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 99 और विरोध में 105 मत पड़े थे. इस तरह कुमारस्वामी सरकार के विश्वासमत हारने के बाद तीन सप्ताह से चले आ रहे सियासी नाटक का पटाक्षेप हो गया था.

ये भी पढ़ें: 'कर्नाटक में भविष्य में भी जारी रहेगी राजनीतिक अस्तिरता'

SC ने कर्नाटक के विधायकों को याचिका वापस लेने की दी मंजूरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 25, 2019, 5:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...