अपना शहर चुनें

States

101 साल के स्वतंत्रता सेनानी को पाकिस्तानी एजेंट बताने वाले MLA के समर्थन में आए बीजेपी नेता

यतनाल ने दुरैस्वामी को 'फर्जी स्वतंत्रता सेनानी' बताते हुए कहा था कि 'वह पाकिस्तानी एजेंट' थे.
यतनाल ने दुरैस्वामी को 'फर्जी स्वतंत्रता सेनानी' बताते हुए कहा था कि 'वह पाकिस्तानी एजेंट' थे.

विजयपुरा के विधायक बासनगौड़ा पाटिल यतनाल ने कहा, 'कई फर्जी स्वतंत्रता सेनानी हैं. एक बेंगलुरु में भी हैं. हमें अब बताना पड़ेगा कि दुरैस्वामी क्या हैं. वह वृद्ध कहां हैं? वह पाकिस्तान के एजेंट की तरह व्यवहार करते हैं?'

  • Share this:
बेंगलुरु. स्वतंत्रता सेनानी एचएस दुरैस्वामी (HS Doreswamy) को 'पाकिस्तान का एजेंट' (Pakistan Agent) बताने वाले विजयपुरा के विधायक बासनगौड़ा पाटिल यतनाल का कई बीजेपी नेताओं ने समर्थन किया है. वहीं कांग्रेस ने यतनाल पर निशाना साधते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. यतनाल ने दुरैस्वामी को 'फर्जी स्वतंत्रता सेनानी' (Freedom Fighter) बताते हुए कहा था कि 'वह पाकिस्तानी एजेंट' थे.

इसके कुछ दिन बाद भाजपा नेता यतनाल के समर्थन में आ गए. यतनाल ने 25 फरवरी को एक संवाददाता सम्मेलन में यह टिप्पणी कांग्रेस के 'संविधान बचाओ' सभा से जुड़े एक सवाल के जवाब में किया था. पाटिल ने कहा, 'कई फर्जी स्वतंत्रता सेनानी हैं. एक बेंगलुरु में भी हैं. हमें अब बताना पड़ेगा कि दुरैस्वामी क्या हैं. वह वृद्ध कहां हैं? वह पाकिस्तान के एजेंट की तरह व्यवहार करते हैं?'

प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार ने कोडागु में शनिवार को यतनाल की टिप्पणी पर कहा, 'दुरैस्वामी बुजुर्ग हैं और हम सबके वरिष्ठ हैं. उन्होंने कई विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा लिया है. उन्हें भी ध्यान देना चाहिए कि क्या बोलना चाहिए और इससे किसकी भावनाएं आहत होंगी.' उन्होंने कहा, ''हम सबने देखा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में क्या कहा. अगर आप बुरा बोलेंगे तो बुरा सुनेंगे भी.''



बेल्लारी सिटी के विधायक जी सोमशेखर रेड्डी ने भी यतनाल का समर्थन करते हुए कहा कि उनका बयान उचित था. उन्होंने कहा, 'उनके बयान में कुछ भी गलत नहीं है. यह पूरी तरह सही. मैं उनका समर्थन करता हूं. सिर्फ स्वतंत्रता सेनानी होना ही अच्छा नहीं है बल्कि उन्हें 'देशभक्त' भी होना चाहिए, जो देश की एकता और अखंडता की रक्षा करे.'
बीजेपी के अन्य मंत्री के एस ईश्वरप्पा ने शुक्रवार को दुरैस्वामी की यह कहते हुए निंदा की कि स्वतंत्रता सेनानी अमूल्या लियोन के आवास क्यों गए और उनका उसके परिवार से अच्छा रिश्ता है.


अमूल्या ने 21 फरवरी को सीएए विरोधी कार्यक्रम में तीन बार 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाकर सबको स्तब्ध कर दिया था.

दुरैस्वामी के खिलाफ यतनाल के बयान की आलोचना करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने यतनाल के विरुद्ध प्रदर्शन किया और उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने अपने हाथों में तख्तियां ले रखी थीं जिसमें यतनाल को अपनी भाषा पर नियंत्रण रखने की सलाह वाले संदेश लिखे थे.

ये भी पढ़ें- एक्‍ट्रेस ने छोड़ी BJP, कहा- ऐसी पार्टी में नहीं रह सकती जिसमें अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा जैसे नेता हों

US-तालिबान समझौते से भारत की बढ़ेगी कितनी टेंशन, विदेश मंत्रालय ने दिया जवाब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज