होम /न्यूज /राष्ट्र /कर्नाटक: BJP ने की चुनाव से पहले लिंगायत समाज को साधने की कोशिश, अमित शाह ने संत बसवेश्वर की प्रतिमा पर अर्पित की पुष्पांजलि

कर्नाटक: BJP ने की चुनाव से पहले लिंगायत समाज को साधने की कोशिश, अमित शाह ने संत बसवेश्वर की प्रतिमा पर अर्पित की पुष्पांजलि

राज्य में लिंगायत समाज बीजेपी का वोट बैंक माना जाता है (फोटो आभार twitter)

राज्य में लिंगायत समाज बीजेपी का वोट बैंक माना जाता है (फोटो आभार twitter)

लिंगायत समाज, कर्नाटक की राजनीति में अहम स्थान रखता है. मौजूदा मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई और पूर्व सीएम बी एस येदियुरप्प ...अधिक पढ़ें

बेंगलुरु. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इस समय कर्नाटक के दौरे पर हैं. खबरों के मुताबिक, राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर शाह, मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई और दूसरे बड़े नेताओं के साथ समीक्षा बैठक करने वाले हैं. हांलाकि इस दौरे में वह कई सरकारी कार्यक्रमों में हिस्सा भी ले रहे हैं. न्यूज एजेंसी भाषा की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसी क्रम में आज उन्होंने  12वीं सदी के समाज सुधारक एवं लिंगायत संत बसवेश्वर की जयंती के मौक पर उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की. इस कदम को कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले लिंगायत समाज तक पहुंच स्थापित करने के रूप में देखा जा रहा है.

चुनाव के हिसाब से लिंगायत राज्य का एक प्रभावशाली समुदाय है और इसे सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का एक मजबूत वोट बैंक माना जा रहा है. इस मौके पर शाह के साथ मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कतील, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सी. टी. रवि, राज्य मंत्रिमंडल के कई मंत्री समेत अन्य लोग मौजूद थे. शाह ने 2018 में हुए विधानसभा चुनाव से पहले यहां बसवेश्वर सर्कल स्थित इसी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की थी. यह विधान सुधा के नजदीक है.

कौन थे बसवेश्वर?
बसवेश्वर को बसवन्ना के नाम से भी पहचाना जाता है. उनकी जयंती को ‘बसव जयंती’ के रूप में मनाया जाता है. इस दिन कर्नाटक में एक सार्वजनिक अवकाश रहता है. बसवेश्वर एक दार्शनिक, समाज सुधारक और राजनेता थे. उन्होंने समाज से जाति व्यवस्था को दूर करने का प्रयास किया और जाति तथा धार्मिक भेदभाव के खिलाफ लड़ाई लड़ी. उन्होंने अपनी कविताओं के माध्यम से सामाजिक जागरूकता भी फैलाई. लिंगायत/वीरशैव, समुदाय बसवेश्वर के प्रति निष्ठा रखता है. राज्य में इनकी अनुमानित 17 प्रतिशत आबादी है.

लिंगायत समाज की राजनीति में है निर्णायक भूमिका
राजनीतिक पर्यवेक्षकों के अनुसार, राज्य के कुल 224 विधानसभा क्षेत्रों में से लगभग 140 में राजनीतिक रूप से प्रभावशाली लिंगायत समुदाय की महत्वपूर्ण उपस्थिति मानी जाती है और लगभग 90 सीटों पर यह निर्णायक भूमिका निभाते हैं. मुख्यमंत्री बोम्मई और राज्य में भाजपा के वरिष्ठ नेता बी एस येदियुरप्पा दोनों इसी समुदाय से नाता रखते हैं.

मंत्रीमंडल में हो सकता है फेरबदल
विधानसभा चुनाव 2023 से पहले राज्य के मंत्रिमंडल में फेरबदल या विस्तार होने की खबरों के बीच शाह राज्य के दौर पर सोमवार रात को पहुंचे. वह मंगलवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में विभिन्न कार्यक्रमों में और एक बैठक में शिरकत करने वाले हैं.

Tags: Home Minister Amit Shah, Karnataka BJP

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें