येडियुरप्पा ने तीन हफ्ते बाद बनाया मंत्रिमंडल, निर्दलीय विधायक को भी दी खास जगह

News18Hindi
Updated: August 20, 2019, 12:24 PM IST
येडियुरप्पा ने तीन हफ्ते बाद बनाया मंत्रिमंडल, निर्दलीय विधायक को भी दी खास जगह
राज्यपाल वजूभाई वाला ने मंगलवार को साढ़े दस बजे राजभवन में नये मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री येडियुरप्पा (BS Yeddyurappa) को मंत्रिमंडल विस्तार में संतुलन स्थापित करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी है, क्योंकि इन नामों पर गौर करें तो उन्होंने जातिगत और क्षेत्रीय आधार पर अच्छा संतुलन बनाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2019, 12:24 PM IST
  • Share this:
कर्नाटक (Karnataka) के मुख्यमंत्री का पदभार ग्रहण करने के करीब तीन हफ्ते बाद बीएस येडियुरप्पा (BS Yeddyurappa) ने मंगलवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया. उन्होंने पहले चरण में पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार, निर्दलीय विधायक एच नागेश समेत 16 अन्य विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल किया है.

येदियुरप्पा के 26 जुलाई को मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके मंत्रिमंडल का यह पहला विस्तार है. उन्होंने 29 जुलाई को विधानसभा में अपनी सरकार का बहुमत साबित किया था. बीस दिनों तक एक सदस्यीय मंत्रिमंडल के साथ सरकार चलाने के बाद मुख्यमंत्री 20 अगस्त को कैबिनेट विस्तार के लिए शनिवार को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मंजूरी हासिल कर पाए. राज्यपाल वजूभाई वाला ने मंगलवार को साढ़े दस बजे राजभवन में नये मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई.



मंत्रिमंडल में कौन कौन?
Loading...

सूत्रों के मुताबिक, येडियुरप्पा को मंत्रिमंडल विस्तार में संतुलन स्थापित करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी है, क्योंकि इन नामों पर गौर करें तो उन्होंने जातिगत और क्षेत्रीय आधार पर अच्छा संतुलन बनाया है. हालांकि, कांग्रेस-जेडीएस के अयोग्य विधायकों, जिनके विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद भाजपा सत्ता में आई है, उन पर सुप्रीम कोर्ट ने कोई निर्णय नहीं दिया है, हालांकि मुख्यमंत्री के पास उन पर फैसला लेने की तत्काल कोई मजबूरी भी नहीं है. देखें सूची...

ये नाम आज मंत्रिमंडल में शामिल हुए.


मुख्यमंत्री के समर्थकों में चिंता
खबरों के अनुसार मुख्यमंत्री के समर्थक इस सूची को अंतिम रूप दिये जाने से पहले भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोषण से परामर्श किये जाने की वजह से चिंता में हैं जो कर्नाटक से ही हैं तथा येडियुरप्पा के विरोधी माने जाते हैं. मुख्यमंत्री के समर्थकों को लग रहा है कि राज्य में उनका कद बढ़ाया जा रहा है. सूत्रों के अनुसार, हालांकि अंतिम फैसला आलाकमान के हाथ में होने के कारण किसी असंतोष के खुलेआम सामने आने की संभावना नहीं है. येडियुरप्पा सरकार का ये मंत्रिमंडल विस्तार राज्य की राजनीति में एक बड़ा कदम है. बीजेपी पहले भी राज्य को स्थायी सरकार देने की बात कह चुकी है.

विपक्ष का आरोप
कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने आरोप लगाया कि प्रशासनिक मशीनरी में तल्खी आ गई है, विशेषकर ऐसे समय में जब राज्य में बाढ़ का कहर जारी है. "प्रशासनिक मशीनरी एक ठहराव पर आ गई है. क्या ये लोकतंत्र है या तानाशाही?"

कांग्रेस नेता सिद्धारमैया.


उन्होंने कहा, "मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के तरह ही येडियुरप्पा ने मंत्रिमंडल का विस्तार करने में जल्दी क्यों नहीं दिखाई? राज्य के लोग विभिन्न हिस्सों में सूखे और बाढ़ के कारण संकट में हैं."

ये भी पढ़ें:
पाकिस्तानी सेना को मिनटों में धूल चटा देगी इंडियन आर्मी

पूर्व सांसदों को एक हफ्ते में खाली करने होंगे सरकारी बंगले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 20, 2019, 9:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...