होम /न्यूज /राष्ट्र /

कर्नाटक में बोम्मई मंत्रिमंडल की शपथ, येडियुरप्पा के बेटे को जगह नहीं, जानें कौन-कौन बना मंत्री

कर्नाटक में बोम्मई मंत्रिमंडल की शपथ, येडियुरप्पा के बेटे को जगह नहीं, जानें कौन-कौन बना मंत्री

बोम्मई की कैबिनेट में 29 मंत्री हैं (फाइल फोटो)

बोम्मई की कैबिनेट में 29 मंत्री हैं (फाइल फोटो)

Basavraj Bommai's Cabinet: सूत्रों की मानें तो बोम्मई की कैबिनेट में आठ मंत्री लिंगायत समुदाय से, सात-सात वोक्कालिगा और ओबीसी से, एक महिला, तीन अनुसूचित जाति से, एक अनुसूचित जनजाति से और दो अन्य समुदायों से आते हैं.

    बेंगलुरु. बीएस येडियुरप्पा को कर्नाटक के मुख्यमंत्री की कुर्सी से हटाए जाने के बाद राज्य की कमान संभालने वाले मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई की कैबिनेट ने बुधवार को शपथ ली. शपथ लेने वाले 29 मंत्रियों में से गोविंद करजोल, केएस ईश्वरप्पा, आर अशोका और श्रीरामुलु ने सबसे पहले शपथ ली. इसमें एक अनुसूचित जाति, एक ओबीसी, एक वोक्कालिगा और अनुसूचित जनजाति के हैं जिससे यह साफ होता है कि कर्नाटक की नई कैबिनेट में सभी जातियों का समावेश है. हालांकि इसमें से कोई भी उपमुख्यमंत्री नहीं होगा.

    सूत्रों की मानें तो बोम्मई की कैबिनेट में आठ मंत्री लिंगायत समुदाय से, सात-सात वोक्कालिगा और ओबीसी से, एक महिला, तीन अनुसूचित जाति से, एक अनुसूचित जनजाति से और दो अन्य समुदायों से आते हैं. बोम्मई ने इससे पहले संवाददाताओं को जानकारी दी थी कि बुधवार को शपथ लेने वाले उनकी कैबिनेट के मंत्रियों में पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा के छोटे बेटे और राज्य में भाजपा के उपाध्यक्ष बीवाई विजयेंद्र शामिल नहीं होंगे.

    ये है मंत्रियों की पूरी सूची:

    गोविंदा करजोल: अनुसूचित जाति के नेता जिन्होंने सबसे पहले शपथ ली.

    केएस ईश्वरप्पा: ओबीसी नेता, जो येडियुरप्पा कैबिनेट में आरडीपीआर मंत्रालय संभाल रहे थे.

    आर अशोक: वोक्कालिगा समुदाय से आते हैं. येडियुरप्पा की कैबिनेट में राजस्व मंत्री रहे हैं.

    डॉ. अश्वथ नारायण: वोक्कालिगा समुदाय से आते हैं. ये पूर्व में उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं और राज्य के कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख भी रह चुके हैं.

    बी श्रीरामुलु: अनुसूचित जनजाति समुदाय से आते हैं.

    वी सोमन्ना: एक लिंगायत नेता जो कि वर्तमान में कर्नाटक के आवासीय विभाग के मंत्री हैं और गोविंदराज नगर विधानसभा से सांसद हैं.

    जेसी मधुस्वामी: वह कर्नाटक के जल संसाधन विभाग से लघु सिंचाई राज्य मंत्री रह चुके हैं.

    सीसी पाटिल: वो कर्नाटक के वाणिज्य विभाग से सूचना और जनसंपर्क, लघु उद्योग राज्य मंत्री थे.

    प्रभु चव्हाण: गौमाता के नाम पर शपथ ली है.

    आनंद सिंह: सिंह ने विजयनगर विरुपाक्ष और ‘थायी’ (मां) भुवनेश्वरी (कर्नाटक की देवी के रूप में प्रतिष्ठित देवी) के नाम पर शपथ ली.

    के गोपालैया: वह बेंगलुरु से हैं और दल बदलने वालों में से हैं.

    बिरथी बसवराज: वे येडियुरप्पा कैबिनेट में शहरी विकास राज्य मंत्री थे.

    एसटी सोमशेखर: वोक्कालिगा नेता, और दलबदलुओं के खेमे का भी हिस्सा हैं.

    बीसी पाटिल: पार्टी बदलने वाले नेताओं के खेमे से एक और नेता.

    के सुधाकर: येडियुरप्पा कैबिनेट में स्वास्थ्य मंत्री थे, और दलबदल करने वाले नेताओं में से हैं.

    केसी नारायण गौड़ा: वोक्कालिगा प्रमुख मांड्या क्षेत्र से आने वाले वोक्कालिगा नेता, वह जेडीएस से भाजपा में आ गए थे. केआर पेटे को छोड़कर मांड्या के हर निर्वाचन क्षेत्र में जेडीएस के विधायक हैं.

    शिवराम हेब्बार: कांग्रेस के दलबदलू नेताओं में से एक ब्राह्मण नेता.

    उमेश कट्टी: उत्तरी कर्नाटक से आठ बार विधायक रहे कट्टी लिंगायत नेता हैं.

    एस अंगारा: कर्नाटक विधानसभा के पांच बार के सदस्य, उनके पास मत्स्य पालन मंत्रालय है.

    मुरुगेश निरानी: बहुसंख्यक पंचमसाली उपखंड के एक लिंगायत नेता

    एमटीबी नागराज: कांग्रेस और जेडीएस के 17 बागी विधायकों में से एक, जिनके दलबदल के कारण गठबंधन सरकार गिर गई थी.

    कोटा श्रीनिवास पुजारी: शपथ लेने वाले पहले एमएलसी। वह तटीय कर्ण क्षेत्र से आते हैं और येडियुरप्पा कैबिनेट में मुजराई मंत्री रहे हैं.

    शशिकला जोले: बोम्मई मंत्रिमंडल में अकेली महिला मंत्री; राजभवन पहुंचने के लिए उन्हें एयरपोर्ट से जीरो ट्रैफिक दिया गया.

    वी सुनील कुमार: राज्य सरकार में मुख्य सचेतक हुआ करते थे. वह तटीय कर्नाटक के करकला से आते हैं.

    हलप्पा आचार: लिंगायत नेता, छह नए मंत्रियों में से एक हैं.

    अरागा ज्ञानेंद्र: वोक्कालिगा नेता, वह छह नए मंत्रियों में से एक हैं.

    शंकर पाटिल मुनानकोप्पा: लिंगायत नेता, वह छह नए मंत्रियों में से एक हैं.

    बीसी नागेश: ब्राह्मण नेता और बोम्मई कैबिनेट में शामिल नया चेहरा.

    मुनिरत्ना: ओबीसी समुदाय से आने वाले मुनिरत्ना ने सबसे आखिर में शपथ ली. वह बोम्मई कैबिनेट में नया नाम हैं.

    बोम्मई मंत्रिमंडल में मोटे तौर पर पिछली बीएस येडियुरप्पा कैबिनेट में शामिल रहे चेहरे ही हैं, जबकि छह नए नेताओं को भी कैबिनेट में जगह दी गई है. येडियुरप्पा के इस्तीफे के बाद पिछले हफ्ते भाजपा विधायक दल के नए नेता के रूप में चुने गए बोम्मई ने 28 जुलाई को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी.

    Tags: BS Yediyurappa, Karnataka, Karnataka Cabinet, OBC

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर