एक दिन के लिए किसान बने कर्नाटक के CM, खेत में की धान की रोपाई

कर्नाटक के वर्तमान मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी शनिवार को एक दिन के लिए किसान बन गए. किसानों को यह संदेश देने के लिए कि वह‍ उनके साथ हैं उन्‍होंने मांडया जिले में चावल के पौधे लगाए.

D P Satish | News18Hindi
Updated: August 11, 2018, 6:04 PM IST
एक दिन के लिए किसान बने कर्नाटक के CM, खेत में की धान की रोपाई
कर्नाटक के वर्तमान मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी शनिवार को एक दिन के लिए किसान बन गए.
D P Satish
D P Satish | News18Hindi
Updated: August 11, 2018, 6:04 PM IST
पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा को हमेशा यह गर्व रहा कि वह 'धरतीपुत्र' हैं. 86 साल के देवेगौड़ा गरीब किसान परिवार में जन्‍मे थे. 1962 में विधायक बनने से पहले उन्‍होंने जानवर चराए और चावल व रागी के खेतों में काम किया. उनके बेटे और कर्नाटक के वर्तमान मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी शनिवार को एक दिन के लिए किसान बन गए. किसानों को यह संदेश देने के लिए कि वह‍ उनके साथ हैं उन्‍होंने मांडया जिले में धान की रोपाई की.

आधी बाजू का शर्ट और धोती पहने हुए कुमारस्‍वामी ने पांडवपुर तालुक के सीतापुरा गांव में खेत में काम किया. उनके साथ 150 किसानों और जेडीएस कार्यकर्ताओं ने भी रोपाई की. इसके बाद उन्‍होंने किसानों के साथ खेत में ही सादा शाकाहारी खाना भी खाया और बारिश, फसलों, कीमतों व लोन के बारे में बात की. उन्‍होंने किसानों को संबोधित भी किया और भरोसा दिलाया कि उनकी सरकार सभी तर‍ह की मदद करेगी.

मीडिया को कुमारस्‍वामी ने कहा, 'मैं एक किसान हूं. मेरे पिता एचडी देवेगौड़ा और मां चनम्‍मा गरीब किसान परिवारों से हैं. मैंने किसानों की पीड़ा देखी है. जब मैं छोटा था तो धान के खेतों में काम करता था. मैंने आज यह काम 25 साल बाद किया है. लेकिन मैं इसे हर साल करना चाहता हूं.' उन्‍होंने कहा कि वह अगले दो महीने सभी 30 जिलों में किसानों से मिलेंगे. मुख्‍यमंत्री ने 40 हजार करोड़ रुपये की कर्जमाफी के बारे में कहा कि किसानी करना आसान नहीं है ऐसे में यह कदम उठाया गया है.

विपक्षी बीजेपी ने कुमारस्‍वामी के खेती करने को एक और राजनीतिक पैंतरा बताया. कर्नाटक बीजेपी अध्‍यक्ष बीएस येदियुरप्‍पा और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंतकुमार ने किसानों के प्रति उनके संकल्‍पों पर सवाल उठाए. कर्नाटक जेडीएस अध्‍यक्ष एच विश्‍वनाथ ने पलटवार करते हुए कहा कि कुमारस्‍वामी किसानों में भरोसा बढ़ाना चाहते हैं जबकि बीजेपी देश को बांटने में लगी है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर