कर्नाटक में कोरोना के अब तक के सारे रिकॉर्ड टूटे, 19 हजार से अधिक नए मामले, बेंगलुरु में लॉकडाउन की अटकलें

नई दिल्ली के सीमापुरी श्मशान भूमि में कोरोना वायरस से मरे एक व्यक्ति के  दाह संस्कार को देखती परिवार की एक महिला सदस्य. (PTI/16 April 2021)

नई दिल्ली के सीमापुरी श्मशान भूमि में कोरोना वायरस से मरे एक व्यक्ति के दाह संस्कार को देखती परिवार की एक महिला सदस्य. (PTI/16 April 2021)

Karnataka Coronavirus Update: राज्य में अब तक 13,351 मरीजों को इस बीमारी की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी है. वहीं, इस वक्त कर्नाटक में 1,33,543 सक्रिय मामले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 7:25 PM IST
  • Share this:

बेंगलुरु. कर्नाटक में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. यहां पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 19,067 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 11,61,065 पहुंच गई है. इस दौरान 4,603 लोग अस्पताल से डिस्चार्ज हुए और 81 लोगों की कोरोना महामारी से मृत्यु दर्ज़ की गई. इसके बाद राज्य में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले मरीजों की तादाद 10,14,152 हो गई है, जबकि राज्य में अब तक 13,351 मरीजों को इस बीमारी की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी है. वहीं, इस वक्त कर्नाटक में 1,33,543 सक्रिय मामले हैं.



दूसरी ओर, कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच बेंगलुरु में और कड़े कदमों की जरूरत बताई है जिसके बाद शहर में आने वाले दिनों में लॉकडाउन लगने की अटकलें हैं. सुधाकर ने यहां एक निजी अस्पताल में कोविड-19 का उपचार करा रहे मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा से मिलने के बाद संवाददाताओं से कहा, 'बेंगलुरु में और कड़े कदमों की जरूरत है. यह मेरी स्पष्ट राय है और इस बारे में मुख्यमंत्री को भी बताया जाएगा.'



क्या सुधाकर ने येदियुरप्पा से लॉकडाउन लगाने के बारे में बात की, इस सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘मैंने उनसे इस बारे में बात की है. कल सर्वदलीय बैठक के बाद मुख्यमंत्री कड़े कदमों की वकालत कर सकते हैं.’ सोमवार को इस मामले में राज्य में सर्वदलीय बैठक होगी.




पहले यह बैठक रविवार को होनी थी और इसकी अध्यक्षता येदियुरप्पा को करनी थी. चूंकि मुख्यमंत्री अस्पताल में हैं, इसलिए सोमवार को राजस्व मंत्री आर. अशोक बैठक की अध्यक्षता करेंगे. सुधाकर ने कहा कि कोरोना वायरस से समन्वय और सभी के सुझावों से निपटा जा सकता है, इसलिए बैठक बुलाई है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन एकमात्र समाधान नहीं है, लेकिन कोई भी फैसला लेने से पहले सबके विचार जाने जाएंगे.



(इनपुट भाषा से भी)


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज