14 महीने बाद कर्नाटक में गिरी कांग्रेस-जेडीएस सरकार, चौथी बार CM बन सकते हैं येदियुरप्पा

कर्नाटक में 21 दिन से चल रही भारी सियासी उठापटक के बाद कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिर गई है. राज्य में भारतीय जनता पार्टी को बहुमत मिला है.

News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 12:19 PM IST
News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 12:19 PM IST
कर्नाटक में 21 दिन से चल रही भारी सियासी उठापटक के बाद कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिर गई है. राज्य में भारतीय जनता पार्टी को बहुमत मिला है. जहां कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को 99 वोट मिले तो वहीं भारतीय जनता पार्टी को 105 वोट मिले. कर्नाटक में पिछले 21 दिन से जारी सियासी उठापटक का आखिरकार अंत हो गया है. बार-बार टलने के बाद मंगलवार को कांग्रेस-जेडीएस सरकार का फ्लोर टेस्ट हुआ जिसके परिणाम में गठबंधन सरकार को हार का सामना करना पड़ा.

14 महीने चली गठबंधन सरकार
कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने 14 महीने 116 विधायकों के साथ सरकार चलाई. 1 जुलाई को कांग्रेस के दो विधायकों के इस्तीफे के बाद पिछले 23 दिन से राज्य में सियासी उठापटक का माहौल था. राज्य में कुल 15 विधायकों के इस्तीफे के बाद 18 जुलाई को फ्लोर टेस्ट की तारीख तय हुई थी. लेकिन बार-बार हंगामे के कारण फ्लोर टेस्ट नहीं हो सका.

फ्लोर टेस्ट में हारने के बाद एचडी कुमारस्वामी ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. कुमारस्वामी के इस्तीफे पर राज्यपाल वजूभाई वाला ने अपनी मंजूरी दे दी है. अब भाजपा सरकार बनाने का दावा पेश करेगी. भारतीय जनता पार्टी कल विधायक दल की बैठक करेगी. जिसके बाद येदियुरप्पा चौथी बार सीएम बन सकते हैं.



अल्टीमेटम के बाद पूरा हुआ फ्लोर टेस्ट
इससे पहले सोमवार को भी फ्लोर टेस्ट के लिए देर रात जनता दल सेक्यूलर और कांग्रेस विधायकों के साथ भारतीय जनता पार्टी के विधायकों का टकराव होता रहा. जहां एक ओर बीजेपी विधायक विश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग को लेकर अड़े रहे. वहीं स्पीकर केआर रमेश कुमार ने कुमारस्वामी सरकार को हर हालत में मंगलवार शाम 6 बजे तक बहुमत साबित करने का अल्टीमेटम दिया.
Loading...

फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए सीएम एचडी कुमारस्वामी ने कहा था कि खुशी से अपने पद का बलिदान करने को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि विश्वास मत की कार्यवाही को लंबा खींचने की उनकी कोई मंशा नहीं थी.

कुमारस्वामी ने सदन में मांगी माफी
उन्होंने कहा, मैं विधानसभाध्यक्ष और राज्य की जनता से माफी मांगता हूं. कुमारस्वामी ने कहा, यह भी चर्चा चल रही है कि मैंने इस्तीफा क्यों नहीं दिया और कुर्सी पर क्यों बना हुआ हूं. उन्होंने कहा कि जब 2018 में विधानसभा चुनाव का परिणाम आया था, वह राजनीति छोड़ने की सोच रहे थे. कुमारस्वामी ने कहा, मैं राजनीति में अचानक और अप्रत्याशित तौर पर आया था.

वहीं इससे पहले कांग्रेस नेता सिद्धरमैया ने मंगलवार को भाजपा पर कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार को गिराने और रिश्वत तथा विधायकों को थोक के भाव खरीद कर पिछले दरवाज़े से सत्ता में आने का प्रयास करने का आरोप लगाया.



सिद्धारमैया ने बीजेपी पर लगाए थे आरोप
सिद्धरमैया ने विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए आरोप लगाया कि विधायकों को प्रलोभन देने के लिए 20,25 और 30 करोड़ रुपये की पेशकश की गई तथा पूछा , ये पैसा कहां से आया?

कांग्रेस विधायक दल के नेता और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन समन्वय समिति के अध्यक्ष सिद्धारमैया ने कहा, यह राज्य के राजनीतिक इतिहास पर काला धब्बा है. सिद्धरमैया ने कहा,  सब... 99 फीसदी लोग जानते हैं कि सरकार गिराने के पीछे भाजपा है. यह खुल कर कहिए.

सिद्धारमैया ने कहा, आपको लगता है कि आप लोकतंत्र की हत्या करके सत्ता में आ जाएंगे तो यह आपको उल्टा पड़ेगा. अगर येदियुरप्पा सरकार बना भी लें तो भी आप छह महीने या एक साल के लिए ही सत्ता में होंगे.

ये भी पढ़ें-
गिरी कुमारस्वामी की सरकार, बीजेपी ने कहा, कर्मों का खेल

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Karnataka से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 7:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...