कर्नाटक संकट: पीछा करते रह गए 'संकटमोचक', 5 मिनट में नागेश ने पकड़ ली फ्लाइट

कर्नाटक के वरिष्‍ठ कांग्रेसी नेता और 'संकटमोचक' माने जाने वाले डीके शिवकुमार को जैसे ही निर्दलीय विधायक नागेश के मुंबई रवाना होने की खबर मिली, उन्होंने बिना देरी किए एयरपोर्ट तक उनका पीछा किया. लेकिन, जब तक वह नागेश को पकड़ पाते, वह चेकइन कर चुके थे.

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 1:52 PM IST
कर्नाटक संकट: पीछा करते रह गए 'संकटमोचक', 5 मिनट में नागेश ने पकड़ ली फ्लाइट
मुंबई जाने वाली प्लेन में रवाना होते निर्दलीय विधायक नागेश
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 1:52 PM IST
कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार पर संकट बना हुआ है. सोमवार को पहले निर्दलीय विधायक एच नागेश ने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार से इस्तीफा वापस लिया. फिर देर शाम दूसरे निर्दलीय विधायक आर शंकर ने भी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया. दोनों निर्दलीय विधायकों ने राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात कर बीजेपी को समर्थन देने की बात कही. इस्तीफे के बाद नागेश के बेंगलुरु छोड़ने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने नागेश को पड़कने के लिए एचएएल एयरपोर्ट तक उनका पीछा किया था, लेकिन वह महज 5 मिनट से चूक गए और नागेश की फ्लाइट टेकऑफ कर गई.

'टाइम्स ऑफ इंडिया' में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, कर्नाटक के वरिष्‍ठ कांग्रेसी नेता और 'संकटमोचक' माने जाने वाले डीके शिवकुमार को जैसे ही निर्दलीय विधायक नागेश के मुंबई रवाना होने की खबर मिली, उन्होंने बिना देरी किए एयरपोर्ट तक उनका पीछा किया. लेकिन जब तक वह नागेश को पकड़ पाते, वह चेकइन कर चुके थे. इस घटना से दुखी शिवकुमार ने मीडिया से कहा, 'मैं नागेश से बात करना चाह रहा था. उसे बीजेपी के लोग जबरन मुंबई ले गए हैं.'

बागी विधायकों पर क्या लेंगे फैसला? स्पीकर बोले- बस सुनूंगा बाबा की बात

बीजेपी को देंगे समर्थन

निर्दलीय विधायक नागेश ने सोमवार को सरकार से समर्थन वापस लिया. उन्होंने राज्यपाल को इसकी चिट्ठी भी भेज दी. इसमें लिखा- 'मैं तत्काल प्रभाव से कुमारस्वामी सरकार से समर्थन वापस ले रहा हूं. अब सरकार गिरने कि स्थिति में राज्यपाल संविधान के मुताबिक अगर बीजेपी को सरकार बनाने के लिए बुलाते हैं, तो मैं उसका समर्थन करूंगा.'

मुलबगल विधानसभा सीट से विधायक हैं नागेश
नागेश कोलार जिले की मुलबगल विधानसभा सीट से विधायक हैं. उनकी जीत में शिवकुमार ने अहम भूमिका निभाई थी. नागेश पहले कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉर्पोरेशन में इंजीनियर थे. करीब एक महीने पहले ही वह एचडी कुमारस्‍वामी के मंत्रीमंडल में शामिल हुए.
Loading...

राज्यपाल को इस्तीफा सौंपते नागेश


शीर्ष नेताओं से थे नाराज
बताया जा रहा है कि नागेश कांग्रेस-जेडीएस के शीर्ष नेताओं के उस फैसले से नाराज थे, जिसके तहत बागियों को मंत्रिमंडल में जगह देने के लिए सभी मंत्रियों से इस्‍तीफे ले लिए गए थे. सूत्रों का कहना है कि रविवार देर रात नागेश से कहा गया था कि वह भी अपना इस्‍तीफा सौंप दें.

सोमवार सुबह नागेश ने पूर्व मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया को अपना इस्‍तीफा सौंपा उसके बाद राजभवन पहुंचकर गवर्नर वाजुभाई वाला को दो लेटर भी दिए. राजभवन से वह सीधे एचएएल एयरपोर्ट पहुंचे. बताया जा रहा है कि यहां राज्‍य बीजेपी के अध्‍यक्ष बीएस येदियुरप्‍पा के पर्सनल असिस्‍टेंट एनएच संतोष उनका इंतजार कर रहे थे. नागेश कुछ मिनटों में एक प्‍लेन पर सवार होकर मुंबई रवाना हो गए.

क्या बचेगी कुमारस्वामी सरकार? स्पीकर के पास हैं ये 4 ऑप्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2019, 1:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...