COVID-19: कर्नाटक के मैसुरु में पैरोल के हकदार आठ कैदियों ने जेल में ही रहना किया पसंद

(सांकेतिक तस्वीर)

(सांकेतिक तस्वीर)

Karnataka Coronavirus Parole: कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान जेल में भीड़भाड़ कम करने के लिए, 83 कैदियों को पैरोल की सुविधा प्रदान की गई.

  • Share this:

मैसुरु. मैसुरु केंद्रीय कारागार में आठ कैदियों ने जेल परिसर में भीड़भाड़ कम करने के लिए दी जाने वाली पैरोल सुविधा से इनकार करते हुए अपनी कोठरियों में ही रहना पसंद किया है. जेल अधिकारियों के अनुसार, बाहरी दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित होने के डर के साथ-साथ जेल में बंद लोगों से जुड़ा 'सामाजिक कलंक' उनके अवसर का लाभ उठाने से इनकार करने के प्रमुख कारण हैं.


जेल अधीक्षक के सी दिव्यश्री ने पीटीआई-भाषा को बताया, 'हमारे जेल में 83 कैदी 90 दिनों के पैरोल के हकदार हैं, लेकिन आठ ने कहा है कि वे घर नहीं जाएंगे. बाकी ने इसका लाभ उठाया.' उन्होंने कहा, 'पैरोल का लाभ नहीं लेने के कई कारण हैं. एक मौजूदा कोविड-19 की स्थिति है. इसके अलावा, परिवार और समाज में स्वीकृति से संबंधित मुद्दे हैं.'


कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान जेल में भीड़भाड़ कम करने के लिए, 83 कैदियों को पैरोल की सुविधा प्रदान की गई, जबकि पिछले साल पहली लहर में, उनमें से 63 ने इसका इस्तेमाल किया.



जेल अधिकारियों के अनुसार, 45 वर्ष से अधिक आयु के लगभग 700 कैदियों को कोविड रोधी टीका दिया गया है, जबकि 18 से 44 वर्ष के बीच के कुछ लोगों को भी टीका लगाया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज