Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    VIDEO: बेंगलुरु में बाढ़ जैसे हालात, सैलाब से शहर की सड़कें बनीं समंदर

    कर्नाटक के बेंगलुरु में बाढ़ जैसे हालात (ANI)
    कर्नाटक के बेंगलुरु में बाढ़ जैसे हालात (ANI)

    Heavy Rain in Bangalore: बेंगलुरु के कुछ इलाकों में कई गाड़ियां पानी के बहाव में बह गईं. जबकि कई इलाके तालाब में तब्‍दील हो गए हैं. यहां सड़कों पर पानी का सैलाब है. अभी दो दिन पहले भारतीय मौसम विभाग ने शुक्रवार को बेंगलुरु समेत पूरे कर्नाटक में भारी बारिश की आशंका जताई थी.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 23, 2020, 10:20 PM IST
    • Share this:
    बेंगलुरु. कर्नाटक (Karnataka) की राजधानी बेंगलुरु (Bengaluru) में आफत भरी बारिश ने आम जन-जीवन को तबाह कर दिया है. पिछले कई दिनों से राज्‍य में भारी बारिश (Heavy Rain) का सिलसिला जारी है. जिसकी वजह से बेंगलुरु समेत अन्‍य शहरों के कई इलाके जलमग्‍न हैं. सड़कों पर गाड़ियां तैरती हुई दिख रही हैं. बारिश का आलम यह है कि राजधानी के कुछ इलाकों में कई गाड़ियां पानी के बहाव में बह गईं. जबकि बेंगलुरु के कई इलाके तालाब में तब्‍दील हो गए हैं. यहां सड़कों पर पानी का सैलाब है. अभी दो दिन पहले भारतीय मौसम विभाग ने शुक्रवार को बेंगलुरु समेत पूरे कर्नाटक में भारी बारिश की आशंका जताई थी. आईएमडी ने राज्‍य के लिए अलर्ट जारी किया था.

    इस वर्ष राज्य में बाढ़ की स्थिति गंभीर है, प्रभावितों को अधिक राहत देनी होगी: येडियुरप्‍पा
    कर्नाटक में चार बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण करने के एक दिन बाद मुख्यमंत्री बी एस येडियुरप्‍पा ने गुरुवार को कहा कि इस साल बाढ़ की स्थिति पिछले वर्ष की तुलना में अधिक गंभीर थी और केंद्र को इसके बारे में अवगत कराया गया है. मुख्यमंत्री राज्य सचिवालय में कैबिनेट की बैठक में भाग लेने से पहले पत्रकारों से बात कर रहे थे. उन्होंने कहा, 'पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष बाढ़ की स्थिति गंभीर रही है. बड़ी संख्या में मकान और फसल नष्ट हुयी है.
    येडियुरप्‍पा ने कहा कि हमने केंद्र को इसके बारे में अवगत कराया है और प्रभावित लोगों को अधिक राहत देने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि कैबिनेट में बाढ़ प्रभावित लोगों को अधिक राहत देने को लेकर निर्णय लिया जाएगा.येडियुरप्‍पा ने बुधवार को विजयापुर, कलबुर्गी, यादगीर और रायचूर जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया था, जहां पिछले नौ दिनों से भीमा नदी में बाढ ने तबाही मचाई है. भारतीय सेना और राष्ट्रीय और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल के जवान इस क्षेत्र में बचाव कार्य में लगे हुए हैं.




    येडियुरप्‍पा ने कहा कि धन की कोई कमी नहीं है और प्रभावित परिवारों को पहले से ही 10,000 रुपये की आर्थिक सहायता दी गई है और पिछले साल के मुआवजे के अनुसार इस बार अधिक मुआवजा दिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें: Weather Update: बंगाल की खाड़ी के ऊपर दबाव का क्षेत्र आगे बढ़ा, भारी बारिश की आशंका नहीं

    कर्नाटक आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के आयुक्त मनोज राजन के अनुसार, चार बाढ़ प्रभावित जिलों में 247 प्रभावित गांवों की पहचान की गई है, जबकि 136 गांवों में 43,158 लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया है. जिला प्रशासन ने 205 राहत शिविर खोले हैं जहां 37,931 लोग रह रहे हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज