बेंगलुरु हिंसा मामले में गिरफ्तार 115 लोगों को हाईकोर्ट ने दी जमानत

बेंगलुरु में पिछले साल हुए थे दंगे. (File pic)

पुलिस ने बेंगलुरु दंगे (Bengaluru Riots) में शामिल होने के शक में यूएपीए के तहत सैकड़ों लोगों को पकड़ा था. इस हिंसा की जांच राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही थी.

  • Share this:
    बेंगलुरु. बेंगलुरु (Bengaluru violence) में पिछले साल हुए दंगों के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए 115 आरोपियों को कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) ने जमानत दे दी है. यह दंगे पुलकेशीनगर के विधायक आर अखंडा श्रीनिवास मूर्ति के रिश्‍तेदार द्वारा फेसबुक पर डाली गई एक पोस्‍ट के बाद भड़के थे. इस दौरान भीड़ ने पुलिस स्‍टेशनों और मूर्ति के घर को नुकसान पहुंचाया था.

    पुलिस ने बेंगलुरु दंगे में शामिल होने के शक में यूएपीए के तहत सैकड़ों लोगों को पकड़ा था. इस हिंसा की जांच राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही थी. कर्नाटक हाईकोर्ट ने एनआईए को जांच पूरी करने के लिए अतिरिक्त 90 दिनों का समय देने वाले विशेष अदालत के आदेश को रद्द कर दिया. अदालत ने कहा कि आरोपी को सूचित किए बिना समय का विस्तार करना कानूनी रूप से उचित नहीं है.

    जस्टिस एस विश्‍वजीत शेट्टी ने मुज्जमिल पाशा और 114 अन्‍य लोगों की याचिका पर यह फैसला सुनाया है. इन लोगों को 12 अगस्‍त, 2020 को गिरफ्तार किया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.