सीनियर IPS डी. रूपा ने ट्विटर से लिया ब्रेक, बोलीं- मेरे खिलाफ हैशटैग चलाए गए

सीनियर IPS डी. रूपा ने आज ट्विटर से ब्रेक ले लिया है. (फाइल फोटो)
सीनियर IPS डी. रूपा ने आज ट्विटर से ब्रेक ले लिया है. (फाइल फोटो)

Karnataka: इसी हफ्ते ट्विटर पर डी रूपा (IPS D.Roopa) की पटाखा बैन को लेकर एक यूजर से बहस हो गई थी. पटाखा बैन पर डी रूपा का मत था कि पटाखें दिवाली से जुड़े रीति-रिवाजों का हिस्‍सा नहीं रहे हैं. उन्‍होंने कहा था कि आतिशबाजी का जन्‍म 15वीं शताब्‍दी में हुआ. पटाखे पर बैन को सकारात्‍मक रूप में लेना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2020, 8:50 PM IST
  • Share this:
बेंगलुरु. सीनियर आईपीएस अधिकारी और कर्नाटक (Karnataka) की प्रमुख सचिव गृह डी. रूपा (IPS D.Roopa) ने ट्विटर से ब्रेक लेने का फैसला लिया है. पटाखा बैन को लेकर ट्विटर पर छिड़ी बहस के बाद उन्‍होंने यह फैसला लिया है. डी रूपा ने शनिवार को ट्वीट किया, 'ट्विटर से ब्रेक लेने से पहले मैं उन सेलिब्रिटीज के लिए एक वीडियो शेयर कर रही हूं जो बिना कुछ जाने ही मेरे बारे में बोल रहे हैं. यह वीडियो हिंदी में है. मैंने साउथ इंडियन होने के बावजूद दूरदर्शन से देखकर हिंदी सीखा था.' डी रूपा ने एक अन्‍य ट्वीट में कहा, 'मेरे खिलाफ हैशटैग चलाकर मुझपर प्रेशर बनाया गया. ये बात सभी अच्‍छे से जानते थे कि मैं सरकारी कर्मचारी के तौर पर ट्रोलर्स को उनकी भाषा पर जवाब नहीं दे सकती. आप मुझे बताइए ट्विटर पर ज्‍यादा पावरफुल कौन है?'

दरअसल, इसी हफ्ते ट्विटर पर डी रूपा की पटाखा बैन को लेकर एक यूजर से बहस हो गई थी. पटाखा बैन पर डी रूपा का मत था कि पटाखें दिवाली से जुड़े रीति-रिवाजों का हिस्‍सा नहीं रहे हैं. उन्‍होंने कहा था कि आतिशबाजी का जन्‍म 15वीं शताब्‍दी में हुआ. पटाखे पर बैन को सकारात्‍मक रूप में लेना चाहिए. TrueIndology नाम के यूजर ने इसका विरोध किया. उस यूजर ने शास्‍त्रों से संबंधित कुछ उदाहरण देकर यह साबित करने की कोशिश की कि आतिशबाजी का इतिहास हजारों साल पुराना है और आतिशबाजी हिंदू धर्म का हिस्‍सा रहा है.
सीनियर आईपीएस अधिकारी और TrueIndology नामक यूजर के बीच काफी लंबी बहस चली. अंत में TrueIndology नाम के अकाउंट को ट्विटर ने सस्‍पेंड कर दिया. वहीं डी. रूपा ने उस यूजर पर अभद्र भाषा का इस्‍तेमाल करने, सरकार के आदेशों की अवहेलना करने और आधे अधूरे ज्ञान से लोगों को भ्रमित करने का आरोप लगाया.

बता दें कि 2000 बैच की आईपीएस अधिकारी डी. रूपा इस समय कर्नाटक के प्रमुख सचिव गृह के पद पर हैं. वह राज्‍य की पहली ऐसी महिला अधिकारी हैं जो इस जिम्‍मेदारी तक पहुंची हों. अपने तेज तर्रार रवैये के कारण डी रूपा का 41 बार ट्रांसफर हो चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज