अपना शहर चुनें

States

कर्नाटक के मंत्री का विवादित बयान, कहा-'कायर हैं आत्महत्या करने वाले किसान'

पाटिल पोनमपेट में बांस उत्पादकों को यह बता रहे थे कि कृषि व्यवसाय कितना लाभदायक है.
पाटिल पोनमपेट में बांस उत्पादकों को यह बता रहे थे कि कृषि व्यवसाय कितना लाभदायक है.

Karnataka Minister Statement on Farmer Protest: कर्नाटक के कोडागु जिले के पोनमपेट में किसानों को संबोधित करते हुए कृषि मंत्री ने कहा, 'जो किसान आत्महत्या करते हैं, वह कायर हैं.'

  • Share this:
बेंगलुरु. कर्नाटक के कृषि मंत्री बीसी पाटिल (Agriculture Minister BC Patil) ने कहा कि आत्महत्या करने वाले किसान कायर हैं. कर्नाटक के कोडागु जिले के पोनमपेट में किसानों को संबोधित करते हुए कृषि मंत्री ने कहा, 'जो किसान आत्महत्या करते हैं, वह कायर हैं. केवल वह डरपोक ही आत्महत्या करते हैं, जो अपनी पत्नी एवं बच्चों की देख-रेख नहीं कर सकते हैं.' पाटिल पोनमपेट में बांस उत्पादकों को यह बता रहे थे कि कृषि व्यवसाय कितना लाभदायक है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ कायरों को इस बात का अहसास नहीं है और वे आत्महत्या करते हैं.

अपनी बात के समर्थन में, पाटिल ने एक महिला का उदाहरण दिया जिसने सोने की चूड़ियां पहन रखी थीं. मंत्री ने कहा, 'जब मैने इस बात की जानकारी ली कि उनके हाथों में सोने की चूड़ियां कहां से आयी हैं, आप जानते हैं कि उन्होंने क्या कहा ? उन्होंने कहा कि इस धरती मां ने मुझे 35 साल की मेहनत के लिए यह दिया है.'

कांग्रेस ने मंत्री के बयान पर साधा निशाना
पाटिल ने पूछा, 'यह सब सुनकर आपको प्रसन्नता नहीं होती है.' उन्होंने कहा कि जब एक महिला पूरी तरह कृषि पर निर्भर है और सफलता प्राप्त करती है तो दूसरे किसान ऐसा क्यों नहीं कर सकते हैं. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कर्नाटक कांग्रेस के प्रवक्ता वीएस उगरप्पा ने मंत्री के बयान को कृषक समुदाय को अपमानित करने वाला बताया और इसकी निंदा की है.




उगरप्पा ने बताया, 'यह किसानों का अपमान है. उन्हें (पाटिल को) इसके लिए माफी मांगनी चाहिए.' कांग्रेस नेता ने कहा कि मंत्री को इस बात की जड़ में जाना चाहिए और यह पता लगाना चाहिए कि कुछ किसान आत्महत्या क्यों करते हैं.

ये भी पढ़ेंः- किसानों ने ठुकराया सरकार का खाना और चाय, बोले- हम अपना खाना साथ लाए हैं

किसानों के आत्महत्या करने के पीछे कई कारण
उगरप्पा ने कहा, 'कोई किसान आत्महत्या नहीं करना चाहता. कई कारण हैं, जैसे बाढ़, सूखा... जिसका समाधान अब तक नहीं हुआ है. समस्या की गंभीरता को समझने के बदले मंत्री इस तरह का गैर जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज