होम /न्यूज /राष्ट्र /कर्नाटक: ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट का कोई मामला नहीं, डरने की कोई बात नहीं- स्वास्थ्य मंत्री

कर्नाटक: ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट का कोई मामला नहीं, डरने की कोई बात नहीं- स्वास्थ्य मंत्री

स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने कहा है कि कर्नाटक में ओमिक्रॉन के नए सब वेरिएंट का कोई मामला नहीं आया है. (फोटो-न्यूज़18)

स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने कहा है कि कर्नाटक में ओमिक्रॉन के नए सब वेरिएंट का कोई मामला नहीं आया है. (फोटो-न्यूज़18)

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने बृहस्पतिवार को कहा कि ओमिक्रॉन के नए सब वेरिएंट को लेकर चिंता करने की कोई जरू ...अधिक पढ़ें

मैसुरु: कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने कहा है कि कर्नाटक में ओमिक्रॉन के नए उपस्वरूप (सब-वेरिएंट) का कोई मामला नहीं आया है. के. सुधाकर ने बृहस्पतिवार को कहा कि ओमिक्रॉन के नए उप-स्वरूप को लेकर चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि राज्य में उसका कोई मामला सामने नहीं आया है. उन्होंने कहा कि प्रशासन द्वारा सभी जरूरी एहतियाती उपाय किए जा रहे हैं, खासकर सीमावर्ती जिलों में. उन्होंने लोगों को जल्द से जल्द कोरोना वायरस टीके की बूस्टर खुराक लेने की सलाह दी.

के. सुधाकर ने कहा, ‘इस संबंध में चिंता करने की कोई बात नहीं है क्योंकि महाराष्ट्र में एक मामला सामने आया है और राज्य में नए उप-स्वरूप की पहचान नहीं की गई है. चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन इसके बाद भी हम सतर्क हैं.’ उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि राज्य सरकार पहले ही दिशानिर्देश जारी कर चुकी है.

ये भी पढ़ें- Burhanpur: बंजारा समाज की अनूठी परंपरा, दीपावाली पर बड़ों की आरती उतारकर बेटियां लेती हैं ‘मेरिया’

उधर, INSACOG लैब की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र में अक्टूबर के पहले पखवाड़े में एक्सबीबी स्वरूप के 18 मामले दर्ज किए गए हैं. इन मामलों के अलावा पुणे में BQ.1 और BA.2.3.20 सब वेरिएंट का एक-एक केस भी दर्ज किया गया है. ये मामले 24 सितंबर से 11 अक्टूबर के बीच आए. शुरुआती जानकारी के अनुसार, सभी मामलों में हल्के लक्षण देखे गए. इन 20 मामलों (XBB के 18 और BQ.1 और BA.2.3.20 का एक-एक मामला) में से 15 मामलों में मरीजों ने कोविड-19 वैक्सीन की खुराक ली है, जबकि बाकी के पांच मामलों की जानकारी अभी नहीं मिली है. 

पुणे में आया BQ.1 वेरिएंट के मामले में मरीज ने अमेरिका की यात्रा की थी. रिपोर्ट के अनुसार, ‘जेनेटिक म्यूटेशन वायरस के प्राकृतिक जीवन चक्र का हिस्सा हैं और इसे लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है बल्कि कोविड की रोकथाम के लिए उचित एहतियात बरतनी चाहिए.’

Tags: Corona Omicron New Variant, Karnataka, Omicron variant

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें