क्या स्पीकर के फैसले ने येडियुरप्‍पा सरकार को संकट से निकाल दिया है?

ऐसी उम्मीद की जा रही है कि बीजेपी सरकार आसानी से बहुमत हासिल कर लेगी, लेकिन अगले 6 महीने के अंदर 17 विधानसभा सीटों के चुनाव और उसके परिणाम पर येडियुरप्‍पा सरकार का भविष्य निर्भर करेगा.

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 4:44 PM IST
क्या स्पीकर के फैसले ने येडियुरप्‍पा सरकार को संकट से निकाल दिया है?
येदियुरप्पा सरकार के लिए सोमवार को बहुमत साबित करना आसाना हो जाएगा.
Ravishankar Singh
Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 4:44 PM IST
कर्नाटक राजनीतिक संकट का अंत नजर आने लगा है. रविवार को कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष केआर रमेश ने 14 अन्य असंतुष्ट विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया. मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम के बाद येडियुरप्‍पा सरकार के लिए सोमवार को बहुमत साबित करना आसाना हो जाएगा. ऐसी उम्मीद की जा रही है कि बीजेपी सरकार आसानी से बहुमत हासिल भी कर लेगी, लेकिन अगले 6 महीने के अंदर 17 विधानसभा सीटों के चुनाव और उसके परिणाम पर येडियुरप्‍पा सरकार का भविष्य निर्भर करेगा. इस उपचुनाव में अगर ज्यादा से ज्यादा सीट बीजेपी नहीं जीतती है तो फिर येडियुरप्‍पा का सीएम बने रहना मुश्किल हो जाएगा. ये वो सीटें हैं जो कांग्रेस-जेडीएस की गढ़ रही हैं.

बता दें, राज्य में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिरने के दो दिन बाद ही गुरुवार को स्पीकर ने तीन बागी विधायकों को अयोग्य करार दे दिया था. कर्नाटक विधानसभा में अब अयोग्य विधायकों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है. रविवार को अयोग्य होने वाले विधायकों में कांग्रेस के 11 और जेडीएस के तीन विधायक हैं. अध्यक्ष के इस आदेश के बाद अब सभी 17 विधायक इस विधानसभा के कार्यकाल तक चुनाव लड़ने से अयोग्य करार दे दिए गए हैं. हालांकि, सभी 17 विधायकों के पास कोर्ट जाने का विकल्प अभी भी खुला हुआ है.

येदियुरप्पा के पास अब 105 विधायकों की संख्या हो गई है
येदियुरप्पा के पास अब 105 विधायकों की संख्या हो गई है


17 जेडीएस और कांग्रेस विधायकों को अयोग्य घोषित करने के स्पीकर के फैसले से वास्तव में बीजेपी को फायदा हुआ है. येडियुरप्‍पा के पास अब 105 विधायकों की संख्या हो गई है और बहुमत भी उनके साथ है. कर्नाटक में कुल 225 विधानसभा सीटें हैं. विधानसभा चुनाव 224 सीटों पर होता है. 17 विधायकों के अयोग्य करार दिए जाने के बाद कर्नाटक विधानसभा में सीटों की संख्या 207 हो जाती है. इस लिहाज से 104 विधायक और एक आरक्षित सीट मिलाकर 105 सीटों का जादुई आंकाड़ा सत्ता हासिल करने के लिए अब जरूरी होगा.

कर्नाटक विधानसभा में एचडी कुमारस्वामी की सरकार बहुमत साबित नहीं कर पाई थी
कर्नाटक विधानसभा में एचडी कुमारस्वामी की सरकार बहुमत साबित नहीं कर पाई थी


रविवार को कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष के आर रमेश कुमार ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘उनकी पोस्ट के कारण जिस तरह से उनके सहयोगी उन पर दबाव डाल रहे थे, उसने उन्हें डिप्रेशन में डाल दिया. मैंने वादा किया था कि मैं कुछ दिनों में निर्णय ले लूंगा. मैं समय-सीमा का सम्मान कर रहा था. यह ड्रामा या हेरफेर नहीं है, मैं सज्जन की तरह व्यवहार कर रहा हूं.'

इसे भी पढ़ें :- कर्नाटक: विश्वास मत से एक दिन पहले स्पीकर ने 14 और विधायकों को घोषित किया अयोग्य
Loading...

गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा में एचडी कुमारस्वामी की सरकार बहुमत साबित नहीं कर पाई थी. सदन में बहुमत के पक्ष में 99 वोट ही पड़े थे जबकि विपक्ष में 105 वोट पड़े थे. बाद में बीएस येदियुरप्पा चौथी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने थे.

ये भी पढ़ें:

दिल्ली-NCR की रेव पार्टियों में इस देश से आ रही है करोड़ों की ड्रग्स

क्या हथियारों से रुक सकती है मॉब लिंचिंग, कानून के जानकारों की ये है राय

कम पैसे में भी आप बन सकते हैं अपने मां-बाप के श्रवण कुमार

अब FIR के लिए आपको नहीं जाना पड़ेगा थाने, पुलिस खुद आएगी आपके पास

 एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp
First published: July 28, 2019, 3:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...