कर्नाटक में कोविड-19 टेस्‍ट बढ़ाने के लिए बसों को बनाया गया क्‍लीनिक

कर्नाटक में कोविड-19 टेस्‍ट बढ़ाने के लिए बसों को बनाया गया क्‍लीनिक
कर्नाटक में बसों को बनाया गया क्‍लीनिक.

कर्नाटक (Karnataka) के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा (BS yeddyurappa) ने सोमवार को इन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. हर बस को दो हिस्‍सों में बांटा गया है. पहला परामर्श और दूसरा टेस्टिंग.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोविड 19 संक्रमण (Covid 19) के अब तक 67,152 मामले सामने आ चुके हैं. साथ ही 2206 लोगों की मौत हो चुकी है. ऐसे में देश में हर राज्‍य में कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की पहचान के लिए जांच को बढ़ावा दिया जा रहा है. इस बीच कर्नाटक सरकार (Karnataka) ने कोविड 19 की टेस्टिंग (Covid 19 Test) को बढ़ाने के लिए सरकारी परिवहन की अधिकांश बसों को क्‍लीनिक में बदलना शुरू कर दिया है. इसमें मरीजों के लिए बेड भी लगाए गए हैं.

कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने सोमवार को इन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. उन्‍होंने इस दौरान कहा, 'राज्‍य सरकार की ओर से चिह्नित किए गए रेड जोन से इन बसों का कार्य शुरू किया जाएगा. रेड जोन में अधिक से अधिक लोगों की कोविड-19 जांच करने से कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण वाले अधिक से अधिक लोगों की पहचान संभव होगी. जिन लोगों में कोविड 19 के लक्षण पाए जाएंगे, उन्‍हें जल्‍द से जल्द इलाज के लिए अस्‍पताल पहुंचाया जाएगा.'


इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित खबर के मुताबिक, हर बस को दो हिस्‍सों में बांटा गया है. पहला परामर्श और दूसरा टेस्टिंग. कर्नाटक राज्‍य सड़क परिवहन निगम के अनुसार इस दौरान साफ-सफाई का पूरा ख्‍याल रखा जा रहा है.



कर्नाटक राज्‍य सड़क परिवहन निगम के एक अफसर के मुताबिक, लॉन्‍च होने के बाद बेंगलुरु के शहरी और ग्रामीण इलाकों के लिए चार बसों में चार टीमों को जांच के लिए रवाना किया जाना है. हर टीम में एक डॉक्‍टर, 3 नर्स, लैब टेक्‍नीशिन और कुछ वॉलंटियर्स हैं.

राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के अनुसार, इन बसों में बनाए गए क्‍लीनिक में लोगों को निशुल्‍क ग्‍लूकोस, ब्‍लड प्रेशर टेस्‍ट के साथ ही कोविड 19 के लक्षणों के संबंध में परामर्श देने की भी सुविधा है.

अफसरों के मुताबिक, किसी भी व्‍यक्ति में अगर कोविड 19 के लक्षण मिलेंगे तो तुरंत उसके सैंपल लेकर लैब में जांच के लिए भेजा जाएगा. अगर उसमें कोविड 19 की पुष्टि होती है तो उस मरीज की जानकार सरकार से साझा की जाएगी, जिससे के जल्‍द से जल्‍द उसे क्‍वारंटाइन करने की प्रक्रिया शुरू हो सके.

यह भी पढ़ें: केरल के फार्म में मुर्गियां दे रहीं हरी जर्दी वाले अंडे, खरीदने वालों की लगी भीड़
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज