जम्मू-कश्मीर के DGP बोले- आतंकियों की भर्ती रुकी, लेकिन पाकिस्तानी घुसपैठ की साजिशें जारी

News18Hindi
Updated: September 11, 2019, 11:04 PM IST
जम्मू-कश्मीर के DGP बोले- आतंकियों की भर्ती रुकी, लेकिन पाकिस्तानी घुसपैठ की साजिशें जारी
कश्मीर के डीजीपी ने कहा है कि फिलहाल कश्मीरी युवाओं के आतंकी संगठन में शामिल होने की कोई नई रिपोर्ट सामने नहीं आई है (फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्छेद-370 (Article 370) हटने के बाद धीरे-धीरे हालातों के सामान्य होने की जानकारी देते हुए राज्य के डीजीपी (DGP) दिलबाग सिंह ने बुधवार को कहा है कि आतंकी संगठन में स्थानीय युवाओं की नई भर्ती होने की कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2019, 11:04 PM IST
  • Share this:
केंद्र सरकार (Central Government) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370) को हटाकर कश्मीर के विशेष दर्जे (Special Status) को खत्म कर दिया था. जिसके बाद वहां पर सेना को तैनात कर दिया गया था ताकि किसी भी अप्रिय घटना से बचा जा सके. लेकिन अब धीरे-धीरे कश्मीर (Kashmir) की स्थितियां सामान्य होती नज़र आ रही हैं. इस जुर्माने का उद्देश्‍य रेवेन्‍यू बढ़ाना नहीं है, बल्कि लोगों की सुरक्षा है.

बुधवार को इस बारे में बात करते हुए जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बुधवार को कहा कि आतंकी संगठनों (Terrorist Organisations) में स्थानीय युवाओं की भर्ती होने की कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है. जिसका मतलब है कि स्थानीय युवाओं की आतंकवादी संगठनों में भर्ती पर पूरी तरह से लगाम लगा दी गई है.

बहके युवाओं को वापस रास्ते पर लाने में मिली है सफलता
डीजीपी ने यह भी कहा कि दक्षिणी कश्मीर में आतंकियों के कुछ फल विक्रेताओं को धमकाने का मामला सामने आया था. हालांकि पुलिस को इस स्थिति के बारे में पता है और इस पर ध्यान दे रहे हैं कि कोई किसी को डरा-धमका न सके.

उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, 'आतंकी संगठनों में स्थानीय युवाओं की नई भर्तियों की कोई रिपोर्ट नहीं है. कुछ युवाओं को बहकाया (पहले) गया लेकिन उनमें से कई को हम वापस लाने में सफल रहे हैं. उन्होंने कहा, कुछ जगह घुसपैठ भी होने की खबरें हैं और पिछले महीने गुलमर्ग सेक्टर में दो पाकिस्तानी आतंकियों को सेना ने पकड़ा था."

पिछले हफ्ते सेना ने बताया था कि घाटी में आतंक फैलाने के लिए पाकिस्तान (Pakistan), आतंकियों को कश्मीर में घुसपैठ कराने की पूरी कोशिश कर रहा है. वीडियो क्लिप्स में दिखाया जा रहा है कि लश्कर-ए-तैयबा के दो पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद खलील और मोहम्मद नजीम को 21 अगस्त को गुलमर्ग सेक्टर में गिरफ्तार किया गया था. ये दोनों ही रावलपिंडी के रहने वाले हैं.

फल व्यापारियों को धमकाने की घटना के बाद पुलिस चौकस
Loading...

कश्मीर में फिलहाल जो स्थितियां हैं, उनके बारे में डीजीपी ने बताया कि घाटी में धीरे-धीरे जिंदगी पटरी पर लौट रही है. वहां बच्चे, स्कूल और कर्मचारी दफ्तरों में जा रहे हैं हालांकि दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) में आतंकियों ने फल विक्रेताओं को डराया-धमकाया है ताकि वह फल इकट्ठा न करें. हालांकि पुलिस की सुरक्षा के चलते विक्रेताओं पर इसका खास असर नहीं हुआ है. DGP ने बुधवार को कहा कि घाटी के बाहर के बाजारों में फल पहुंचाने के लिए दक्षिणी कश्मीर के जिले से 230 ट्रक रवाना हुए.

यह भी पढ़ें: UNHRC: गिलगित-बाल्टिस्तान के कार्यकर्ता ने पूछा, 'पाक कश्मीर को कैसे कह सकता है विवादित इलाका?'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 11:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...