लाइव टीवी

J-K: ट्रक ड्राइवर की हत्या का लोगों ने किया विरोध, पूछा- बेगुनाहों को मारना कौन सा जिहाद?

News18Hindi
Updated: October 22, 2019, 12:12 PM IST
J-K: ट्रक ड्राइवर की हत्या का लोगों ने किया विरोध, पूछा- बेगुनाहों को मारना कौन सा जिहाद?
लोगों ने ट्रक ड्राइवर के परिवार को आर्थिक सहायता देने की भी अपील की है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से सेब लेने गए राजस्थान के भरतपुर के रहने वाले 40 वर्षीय ट्रक ड्राइवर शरीफ खान की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. स्थानीय लोगों ने इस हत्या के विरोध में पोस्टर लगाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 12:12 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में संविधान के अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद हत्या और घुसपैठ के मामले बढ़े हैं. हाल ही में आतंकियों ने एक ट्रक ड्राइवर की गला रेतकर हत्या कर दी थी. इस बीच स्थानीय लोगों ने ट्रक ड्राइवर की हत्या का विरोध किया है.

दरअसल, जम्मू-कश्मीर से सेब लेने गए राजस्थान के भरतपुर के रहने वाले 40 वर्षीय ट्रक ड्राइवर शरीफ खान की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. शोपियां में हुए इस घटना में आतंकियों ने ट्रक को आग के हवाले कर दिया था.

स्थानीय लोगों ने इस हत्या के विरोध में पोस्टर लगाए हैं. इसमें खुद को जिहादी बताने वाले आतंकियों से पूछा है कि बेगुनाहों को मारना कौन सा जिहाद है? लोगों ने ट्रक ड्राइवर के परिवार को आर्थिक सहायता देने की भी अपील की है.


Loading...

पिता की हत्या का बदला लेना चाहती हैं बेटियां
ट्रक ड्राइवर की हत्या से उनकी बेटियों में काफी गुस्सा है, वह अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए आर्मी में भर्ती होना चाहती हैं. बेटियों का कहना है कि वह आर्मी में शामिल होकर आतंकवादियों को मारकर अपने पिता की मौत का बदला ले सकेंगी.

विधायक ने परिवार को दी आर्थिक सहायता
पीड़ित परिवार को स्थानीय विधायक ने 4 लाख रुपये बतौर आर्थिक सहायता दिए हैं. इसके अलावा राज्य सरकार की तरफ से 2 लाख रुपये और जम्मू-कश्मीर के शोपियां के जिला कलेक्टर ने 3 लाख रुपये दिए हैं. साथ ही भरतपुर जिला प्रशासन द्वारा जम्मू-कश्मीर सरकार को 5 लाख रुपये पीड़ित परिवार को देने लिए प्रस्ताव भेजा गया है.

ये भी पढ़ें: बोट छोड़कर भागने की कोशिश कर रहे दो पाकिस्‍तानियों को BSF ने पकड़ा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 11:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...