राम माधव ने अनुच्छेद 35A पर कहा- मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर के हित में आवश्यक कदम उठाएगी

भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने आरोप लगाया कि प्रदेश के राजनीतिक दल अपनी राजनैतिक जमीन बचाने के लिए केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों के आने-जाने को अन्य मुद्दों से जोड़ कर कश्मीर में डर का माहौल पैदा कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 9:28 PM IST
राम माधव ने अनुच्छेद 35A पर कहा- मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर के हित में आवश्यक कदम उठाएगी
राम माधव ने आरोप लगाया है कि राजनीतिक दल अपनी राजनैतिक जमीन बचाने के लिए केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों के आने-जाने को अन्य मुद्दों से जोड़ कर कश्मीर में डर का माहौल पैदा कर रहे हैं (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 9:28 PM IST
जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संवैधानिक प्रावधान को वापस लेने की केंद्र की किसी भी योजना से जुड़े सवाल का सीधा उत्तर देने से बचते हुए भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने बुधवार को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार राज्य के हित में उचित समय आने पर आवश्यक कदम उठाएगी.

भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने जम्मू-कश्मीर में संवाददाताओं को बताया, ‘‘इस पर (संविधान के अनुच्छेद 35 ए को निरस्त करने के बारे में) भाजपा का रुख बेहद स्पष्ट है और (इस मामले में) पार्टी कोई निर्णय नहीं करने जा रही है. यह निर्णय प्रधानमंत्री और उनकी सरकार करेगी. लेकिन मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि जो भी निर्णय वे करेंगे वह राज्य के हित में होगा .’’

'राजनीतिक दल अपनी जमीन बचाने के लिए केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों को बना रहे मुद्दा'
भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने आरोप लगाया कि प्रदेश के राजनीतिक दल अपनी राजनैतिक जमीन बचाने के लिए केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों के आने-जाने को अन्य मुद्दों से जोड़ कर कश्मीर में डर का माहौल पैदा कर रहे हैं. उन्होंने कहा है कि संविधान का अनुच्छेद 35 ए राज्य को प्रदेश के स्थायी निवासियों को परिभाषित करने की शक्ति प्रदान करता है.

'राजनीतिक हितों के लिए बनाया जा रहा है भय का माहौल'
भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने कहा, ‘‘स्थानीय राजनीतिक दलों के नेता अपने राजनीतिक हितों के लिए भय का माहौल पैदा कर रहे हैं. सुरक्षा की दृष्टि से कश्मीर में बलों का आना जाना लगा हुआ है और यह एक निरंतर प्रक्रिया है. अतिरिक्त बल अमरनाथ यात्रा और चुनावों के लिए लगाए गए हैं क्योंकि यहां पंचायत के लिये प्रखंड स्तर पर चुनाव होने जा रहे हैं. लेकिन, व्यक्तिगत हितों के लिए बलों के आने-जाने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़ा जा रहा है .’’

क्या है आर्टिकल 35A
Loading...

35A भारतीय संविधान का वह अनुच्छेद है जो जम्मू-कश्मीर विधानसभा को लेकर प्रावधान करता है. यह राज्य को यह तय करने की शक्ति देता है कि जम्मू का स्थायी नागरिक कौन है?


# ये कानून जम्मू-कश्मीर में ऐसे लोगों को कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने या उसका मालिक बनने से रोकता है जो वहां के स्थायी नागरिक नहीं हैं.

# आर्टिकल 35A जम्मू-कश्मीर के अस्थायी नागरिकों को वहां सरकारी नौकरियों और सरकारी सहायता से भी वंचित करता है.

# अनुच्छेद 35A के मुताबिक अगर जम्मू-कश्मीर की कोई लड़की राज्य के बाहर के किसी लड़के से शादी कर लेती है तो उसके जम्मू की प्रॉपर्टी से जुड़े सारे अधिकार खत्म हो जाते हैं. साथ ही जम्मू-कश्मीर की प्रॉपर्टी से जुड़े उसके बच्चों के अधिकार भी खत्म हो जाते हैं.


यह भी पढ़ें: बड़ा फैसला- J&K में सामान्य वर्ग को मिलेगा 10% आरक्षण
First published: July 31, 2019, 9:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...