कठुआ बलात्कार-हत्याकांड : किशोर आरोपी के खिलाफ आज से शुरू होगी मुकदमे की सुनवाई

किशोर न्याय बोर्ड ने 15 जुलाई को सुनवाई शुरू की थी लेकिन क्राइम ब्रांच ने कहा था कि वह इस दिशा में आगे बढ़ने को तैयार नहीं है.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 12:43 AM IST
कठुआ बलात्कार-हत्याकांड : किशोर आरोपी के खिलाफ आज से शुरू होगी मुकदमे की सुनवाई
किशोर न्याय बोर्ड ने 15 जुलाई को सुनवाई शुरू की थी लेकिन क्राइम ब्रांच ने कहा था कि वह इस दिशा में आगे बढ़ने को तैयार नहीं है.
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 12:43 AM IST
कठुआ में पिछले साल आठ साल की एक बच्ची की बलात्कार के बाद हुई हत्या के मामले में एक किशोर आरोपी के खिलाफ मुकदमे की सुनवाई सोमवार को किशोर न्याय बोर्ड के सामने शुरू होगी क्योंकि जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट ने उस याचिका पर जल्द सुनवाई करने से मना कर दिया जिसमें उसके नाबालिग होने को चुनौती दी गई है. अब जम्मू क्षेत्र के कठुआ में किशोर न्याय बोर्ड के सामने मुकदमा शुरू होगा.

किशोर न्याय बोर्ड ने 15 जुलाई को सुनवाई शुरू की थी लेकिन क्राइम ब्रांच ने कहा था कि वह इस दिशा में आगे बढ़ने को तैयार नहीं है क्योंकि आरोपी के नाबालिग होने की स्थिति पर अब तक निर्णय नहीं हुआ है. क्राइम ब्रांच ने कहा था कि पुलिस ने हाईकोर्ट में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के उस आदेश को चुनौती दी है जिसमें आरोपी को किशोर ठहराया गया है.

याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस धीरज सिंह ठाकुर ने कहा, 'इसकी समय से पहले सुनवाई का मामला नहीं बनाया गया है. इस मामले पर उचित तारीख पर विचार किया जाए.' इस मामले को पांच अगस्त के लिए सूचीबद्ध किया गया. क्राइम ब्रांच जल्द सुनवाई की दरख्वास्त करते हुए हाईकोर्ट पहुंची थी क्योंकि किशोर न्याय बोर्ड ‘अपराधी प्रवृति वाले इस किशोर’ के खिलाफ आठ जुलाई को आरोप निर्धारण के बाद अपनी कार्यवाही शुरू कर चुका था.

यह भी पढ़ें:  यौन नैतिकता के देश में 24000 बच्‍चों का यौन उत्‍पीड़न

सरकारी वकील ने कहा था- 

बोर्ड ने क्राइम ब्रांच अभियोजन को इस मामले में अपना सबूत प्रस्तुत करने को कहा था. क्राइम ब्रांच की याचिका में कहा गया है, 'यदि किशोर न्याय बोर्ड के सामने इस मामले की आगे की कार्यवाही पर इस चरण में रोक नहीं लगायी गयी तो पुनरीक्षण याचिका निष्फल हो जाएगी और अपराधी आरोपी के नाबालिग होने के निर्धारण का मूल प्रश्न धरा का धरा रह जाएगा.'

15 जुलाई को विशेष सरकारी वकील ने बोर्ड को सूचित किया था कि आरोपी को नाबालिग स्वीकार करने के कठुआ अदालत के फैसले के खिलाफ क्राइम ब्रांच की अर्जी पर हाईकोर्ट ने अबतक अपना कोई आदेश नहीं सुनाया है. उन्होंने जम्मू मेडिकल कॉलेज की यह रिपोर्ट पेश की कि वह 19 साल से कम और 21 साल से अधिक नहीं है.
Loading...

यह भी पढ़ें:   कठुआ: कोर्ट ने बताया, क्यों विशाल जंगोत्रा को बरी करना पड़ा?

बोर्ड ने सरकारी वकील की बात सुनने के बाद गवाह पेश करने के लिए दो हफ्ते का वक्त दिया क्योंकि हाईकोर्ट ने सुनवाई पर कोई स्थगन नहीं लगाया है. इस मामले की मुख्य सुनवाई पिछले साल सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पठानकोट सत्र अदालत में स्थानांतरित कर दी गयी थी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 12:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...