चुनावी जनसभा में KCR ने खोया आपा, जनता को कहा बेवकूफ

इससे पहले कागजनगर की एक चुनावी जनसभा में मुसलमानों को 12 फीसदी आरक्षण के वादे के बारे में पूछने पर भी केसीआर बिफर गए थे.

Sanjay Tiwari | News18Hindi
Updated: December 5, 2018, 12:51 PM IST
चुनावी जनसभा में KCR ने खोया आपा, जनता को कहा बेवकूफ
केसीआर की फाइल फोटो
Sanjay Tiwari | News18Hindi
Updated: December 5, 2018, 12:51 PM IST
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने चुनाव के ठीक तीन दिन पहले उनकी जनसभा में शामिल होने आए लोगों को बेवकूफ कह दिया. मुख्यमंत्री केसीआर तेलंगाना के आलमपुर विधानसभा इलाके में एक चुनावी जनसभा में राज्य सरकार की सिंचाई योजनाओं के बारे में बता रहे थे. लेकिन जनसभा में शोरगुल ज़्यादा होने के कारण वो अपना आपा खो बैठे और लोगों को बेवकूफ कह डाला. उन्होंने मंच से कहा- ‘क्यों चिल्ला रहे हो. क्या तुम लोग बेवकूफ हो. क्या तुम्हें अक्ल नहीं नहीं है. पागल हो गए हो क्या. तुम लोग क्या 10 मिनट के लिए शांत नहीं रह सकते. ज्यादा उत्साह भी नहीं होना चाहिए. बेमतलब का उत्साह भी बेकार होता है’.

केसीआर ने लोगों को पहले हल्के ढंग से समझाने की कोशिश की. उन्होंने पहले लोगों से कहा कि अगर उन्होंने नारे लगाना बंद नहीं किए तो तुम्मिल्ला प्रोजेक्ट से पानी की सप्लाई बंद कर दी जाएगी. जब इससे लोगों पर कोई असर नहीं हुआ और वो नारेबाज़ी करते रहे तो उन्हें गुस्सा आ गया. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. खासकर विरोधी दल केसीआर के इस वीडियो को सोशल मीडिया पर खूब प्रचारित कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: बीजेपी की टीम C है AIMIM, KCR मोदी के रबर स्टैम्प- राहुल गांधी

इससे पहले कागजनगर की एक चुनावी जनसभा में मुसलमानों को 12 फीसदी आरक्षण के वादे के बारे में पूछने पर भी केसीआर बिफर गए थे. उस जनसभा में जब एक अल्पसंख्यक समाज के वोटर ने खड़े होकर मुसलमानों को 12 प्रतिशत आरक्षण देने के वादे की याद दिलाई, तो केसीआर ने मंच से कहा था- 'बात करते हैं, बैठो खामोश बैठो. वही 12 प्रतिशत ही बोल रहे हैं, बैठो न, तुम्हारे बाप को बोलूंगा, तमाशा कर रहे'.

तेलंगाना में केसीआर चुनावी जनसभा में कई बार ऐसे बयान दे चुके हैं, जिन्हें उनके विरोधी भरपूर इस्तेमाल कर रहे हैं. आदिलाबाद में एक जनसभा में केसीआर ने कहा था कि ये बहुत दुर्भाग्य की बात है कि हमारे देश के मतदाताओं को सही उम्मीदवार चुनने की पर्याप्त समझ नहीं है. केसीआर उस जनता की समझ पर सवाल उठा रहे थे, जिसने पिछली दफा उनको और उनकी पार्टी को चुना था. उन्होंने कहा था कि 'भारत में मतदाता उतने समझदार नहीं हैं कि सही उम्मीदवार का चुनाव कर सकें. वो बिना सोचे-समझे वोट डालते हैं और गलत उम्मीदवार को चुन लेते हैं'.

ये भी पढ़ें: तेलंगाना चुनाव: TRS ने जारी किया घोषणा पत्र, 3016 रुपए बेरोजगारी भत्ता देने का वादा

इतना ही नहीं ऐसी ही एक जनसभा में केसीआर ने मंच से कह दिया था कि अगर तेलंगाना की जनता उनको हरा देती है, तो वो अपने घर जाकर आराम से सो जाएंगे, बाकी बाद में जनता को खुद समझ आ जायेगा. केसीआर के इस बयान को उनके पहली बार हार स्वीकार करने वाले बयान के तौर पर देखा गया था.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->