अपना शहर चुनें

States

KCR का एक और यू-टर्न, तेलंगाना में आयुष्मान भारत योजना लागू करने की दी मंजूरी

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने आयुष्मान भारत योजना लागू करने का फैसला किया है  (File Pic)
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने आयुष्मान भारत योजना लागू करने का फैसला किया है (File Pic)

Ayushman Bharat in Telanaga: आयुष्मान भारत पर केसीआर के रुख में बदलाव कृषि पर विवादास्पद केंद्रीय कानूनों को लागू करने के उनके यू-टर्न के तीन दिनों के भीतर आया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 1, 2021, 5:43 AM IST
  • Share this:
हैदराबाद. केंद्र से अपने टकराव के रुख को दरकिनार करते हुए तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (Telangana CM Chandrashekhar Rao) की अगुवाई वाली तेलंगाना राष्ट्र समिति (Telangana Rashtra Samiti) ने आयुष्मान भारत (Aayushman Bharat) की केंद्रीय योजना को लागू करने का फैसला किया है. राज्य सरकार पिछले दो सालों से इसके विरोध में थी. बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान तेलंगाना (Telanaga) के मुख्य सचिव सोमेश कुमार ने योजना को लागू करने के निर्णय के बारे में केंद्र को बताया.

राज्य सरकार के एक संक्षिप्त आधिकारिक नोट में कहा गया है, "मुख्य सचिव ने पीएम को सूचित किया कि मुख्यमंत्री राव ने भारत सरकार की आयुष्मान भारत योजना को लागू करने के साथ तेलंगाना सरकार की आरोग्यश्री स्वास्थ्य योजना को रद्द करने का निर्णय लिया है." स्वास्थ्य मंत्री एटाला राजेंदर ने गुरुवार को कहा कि राज्य सरकार ने इस साल से केंद्र में आयुष्मान भारत योजना को केंद्र में लागू करने का फैसला किया है. "यह चाहे केंद्रीय योजना हो या राज्य योजना, इसे केवल सार्वजनिक धन के साथ लागू किया जाएगा."

ये भी पढ़ें- सेनाओं को 3 महीनों तक पसंदीदा हथियार खरीदने की छूट, चीन-पाक को जवाब देने को भारत तैयार



2018 में केसीआर ने किया था विरोध
सितंबर 2018 में लागू की गई आयुष्मान भारत योजना को केसीआर, ने बतौर तेलंगाना के मुख्यमंत्री के रूप में इसका जोरदार विरोध किया था और तेलंगाना में इसे लागू करने से इनकार किया था. उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार की आरोग्यश्री योजना आयुष्मान भारत से बहुत बेहतर थी, जिसका लाभ शायद ही कुछ लाख लोगों को ही होगा.

उन्होंने यह भी घोषित किया कि आयुष्मान भारत तेलंगाना की आरोग्यश्री योजना की एक खराब नकल थी. 2019 के आम चुनावों में, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित भाजपा नेताओं ने अपने अभियान के दौरान इसे एक बड़ा मुद्दा बनाया, जिसमें केसीआर पर आरोप लगाया कि उन्होंने आयुष्मान भारत के लाभों को गरीब लोगों तक नहीं पहुंचाया.

भाजपा ने कहा-लोगों से माफी मांगे सरकार
भाजपा राज्य अध्यक्ष बांदी संजय ने कहा कि “यह अच्छा है कि केसीआर ने आयुष्मान भारत पर अपना विचार बदल दिया है. उन्हें पिछले दो वर्षों में इस योजना को लागू करने से इनकार करने के लिए तेलंगाना के लोगों से माफी मांगनी चाहिए.

ये भी पढ़ें- शिवराज सरकार ने EOW-लोकायुक्त के हाथ बांधे, अब सीधे जांच नहीं कर पाएंगी

आयुष्मान भारत पर केसीआर के रुख में बदलाव कृषि पर विवादास्पद केंद्रीय कानूनों को लागू करने के उनके यू-टर्न के तीन दिनों के भीतर आया है. रविवार को ही मुख्यमंत्री ने घोषणा की थी कि इसके बाद राज्य सरकार कृषि उपज की बिक्री और खरीद में शामिल नहीं होगी, क्योंकि देश भर में नए कृषि कानून लागू किए जा रहे हैं.

यह कहते हुए कि सरकार ने महामारी से प्रभावित किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) सुनिश्चित करने के लिए पिछले सीजन में कृषि उत्पादों की खरीद पर 7,500 करोड़ रुपये का नुकसान उठाया, उन्होंने घोषणा की कि राज्य एक व्यापारिक संगठन या व्यापारी नहीं है जो हर साल उपज खरीद सके.

कुछ महीने पहले ही टीआरएस ने संसद में कृषि बिल के खिलाफ मतदान किया था. पार्टी के नेताओं ने कृषि बिलों के खिलाफ कड़े बयान दिए और दिसंबर के पहले सप्ताह में आयोजित भारत बंद कार्यक्रम में भी भाग लिया.

केसीआर ने यह भी घोषणा की कि वह दिसंबर के तीसरे सप्ताह में हैदराबाद में एक राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित करेंगे जिसमें सभी भाजपा विरोधी ताकतों को केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ने के लिए एकजुट किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज