मुस्लिम युवक कीअदालत में अर्जी, पत्नी को उसके माता-पिता से बचाओ

महमूद ने बताया कि वह बेंगलूरू में होटल लाइन में था. तभी दोनो को प्यार हो गया, करीब दो साल के रिलेशन के बाद युवती ने इस्लाम स्वीकार कर लिया और निकाह करके कोझिकोड़ में रहने लगी


Updated: June 13, 2018, 10:58 PM IST
मुस्लिम युवक कीअदालत में अर्जी, पत्नी को उसके माता-पिता से बचाओ
Representative Picture. (Getty Images)

Updated: June 13, 2018, 10:58 PM IST
कोझिकोड़ जिले के एक मुसलमान युवक ने केरल हाई कोर्ट से अपनी पत्नी को उसके माता-पिता के कब्जे से मुक्त कराने का अनुरोध किया है.

युवक ने अपनी याचिका में कहा है कि उसकी पत्नी जन्म से हिन्दू थी लेकिन उसने इस्लाम स्वीकार कर लिया है.

न्यायमूर्ति वी. चिताम्बरेश और न्यायमूर्ति के. पी. ज्योतिन्द्रनाथ की पीठ ने फैसल महमूद की ओर से दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई करते हुए बेंगलुरू में रहने वाले लड़की के पिता को नोटिस जारी किया.

महमूद ने बताया कि वह बेंगलूरू में होटल लाइन में था. तभी दोनो को प्यार हो गया, करीब दो साल के रिलेशन के बाद युवती ने इस्लाम स्वीकार कर लिया और निकाह करके कोझिकोड़ में रहने लगी.

हालांकि, लड़की के पिता और रिश्तेदारों के दबाव में कोझिकोड़ पुलिस ने उनसे जबरन सादे स्टांप पेपर पर हस्ताक्षर करवाया और दोनों को बेंगलुरू पुलिस को सौंप दिया.

बाद में बेंगलुरू पुलिस ने युवती को उसके माता-पिता के साथ भेज दिया. युवक ने आरोप लगाया है कि 28 मार्च से दो अप्रैल के बीच उसे शारिरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया.

युवक का आरोप है कि 29 मई को उसे धमकी भरा फोन आया. उसे अपनी पत्नी को भूलने के लिए कहा गया और ऐसा नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी गई. उसका कहना है कि पांच जून को उसे दोबारा ऐसी ही धमकी मिली.

 
News18 Hindi पर Jharkhand Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Nation News in Hindi यहां देखें.

और भी देखें

Updated: June 16, 2018 10:34 AM ISTVIDEO: राजाजी टाइगर रिजर्व अगले 6 महीने के लिए बंद
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर