Assembly Banner 2021

केरलः दो बच्चियों की रेप के बाद हुई थी हत्या, न्याय के लिए CM के खिलाफ लड़ेगी मां

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने राज्य विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को कन्नूर जिले के धर्मधाम विधानसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. फाइल फोटो

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने राज्य विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को कन्नूर जिले के धर्मधाम विधानसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. फाइल फोटो

Walayar Rape Case: मासूम बच्चियों में से बड़ी की उम्र 13 साल थी और अपने एक कमरे के मकान में वह 13 जनवरी 2017 को फंदे से लटकती पाई गई थी. 4 मार्च को उसकी 9 वर्षीय छोटी बहन का शव भी इसी स्थिति में मिला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2021, 7:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दो नाबालिग लड़कियों की मां (जिनकी बेटियों की 2017 में केरल के वायालार में रेप के बाद हत्या कर दी गई थी) ने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया है. पिनराई विजयन धर्मधाम विधानसभा क्षेत्र से चुनावी मैदान में हैं. पीड़ितों की मां का कहना है कि उनकी उम्मीदवारी एलडीएफ सरकार और मुख्यमंत्री के खिलाफ वायालर मामले की शुरुआती जांच करने वाले पुलिस अधिकारियों को बचाने के खिलाफ विरोध की आवाज है. उक्त पुलिस अधिकारियों को ट्रायल कोर्ट ने रिहा कर दिया था. राज्य सरकार की अपील पर हाईकोर्ट ने अपने फैसले से इतर फिर से ट्रायल कराने का आदेश दिया था. उन्होंने त्रिशूर में कहा, "मैंने अपनी प्रोटेस्ट कमेटी से बात की है और धर्मधाम से निर्दलीय लड़ने का फैसला किया है, ताकि अपनी बेटियों के लिए न्याय हासिल कर सकूं. मुझे सड़कों पर बैठने और सिर मुंडाने के लिए मजबूर किया गया. मैं डिप्टी एसपी सोजन और एसआई चाको को पुलिस सेवा से बर्खास्त देखना चाहती हूं."

वायालार केस को जानिए
बता दें कि दोनों मासूम बच्चियों में से बड़ी की उम्र 13 साल थी और अपने एक कमरे के मकान में वह 13 जनवरी 2017 को फंदे से लटकती पाई गई थी. 4 मार्च को उसकी 9 वर्षीय छोटी बहन का शव भी इसी स्थिति में बरामद किया गया था. मामले में नृशंसता को देखते हुए केरल और तमिलनाडु के बॉर्डर पर स्थित वायालार में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुआ. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक दोनों बच्चियों की हत्या से पहले उनका रेप किया गया था. काफी विरोध प्रदर्शन के बाद पुलिस ने मामले में 5 लोगों को गिरफ्तार किया था. हालांकि 25 अक्टूबर 2019 को स्पेशल पॉक्सो एक्ट कोर्ट ने 3 आरोपियों को बरी कर दिया, जबकि एक आरोपी को मामले में दोषी नहीं पाया गया. मामले की सुनवाई करने वाले जज ने कहा था कि अभियोजन पक्ष आरोपियों के अपराध को सही ढंग से कोर्ट के सामने रखने में नाकाम रहा.

धर्मधाम से लड़ेंगे पिनराई विजयन
केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने राज्य विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को कन्नूर जिले के धर्मधाम विधानसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. राज्य में छह अप्रैल को मतदान होगा. विजयन माकपा के पोलित ब्यूरो के इकलौते सदस्य हैं, जो चुनाव लड़ रहे हैं. विजयन छठी बार विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं. विजयन ने इससे पहले कन्नूर के कुथुपरम्बा का तीन बार 1970, 1977 और 1991 में और पय्यनूर का 1996 में प्रतिनिधित्व किया था. 2016 में उन्होंने धर्मधाम से ही चुनाव लड़ा था और एक बार फिर इस साल वहीं से किस्मत आजमा रहे हैं.



सत्तारूढ़ माकपा नीत वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) लगातार दूसरी बार सत्ता में आकर विपक्षी दलों के उस अंधविश्वास को तोड़ना चाहती है, कि यहां लगातार दूसरी बार सत्ता में आना मुमकिन नहीं है. विजयन दूसरी बार धर्मधाम से चुनाव लड़ रहे हैं. वर्ष 2016 में 140 सदस्यीय केरल विधानसभा में एलडीएफ के 91 सीट हासिल करने के बाद विजयन को मुख्यमंत्री बनाया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज