Assembly Banner 2021

केरल: राज्यसभा के चुनाव कार्यक्रम टालने पर मुख्‍यमंत्री आगबबूला

पिनराई विजयन. (पीटीआई फाइल फोटो)

पिनराई विजयन. (पीटीआई फाइल फोटो)

केरल से राज्‍यसभा की तीन सीटों (Kerala Rajya Sabha Seats) पर 12 अप्रैल को चुनाव होने थे, जिन्‍हें चुनाव आयोग ने टाल दिया है. इस पर केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा है कि इस तरह के फैसले को सिर्फ देश के लोकतंत्र और संविधान पर हमले के तौर पर देखा जा सकता है. इस कदम को अनुच्छेद 324 का उल्लंघन करार देते हुए विजयन (Pinarayi Vijayan) ने इस फैसले के पीछे का कारण जानना चाहा है. मालूम हो कि केरल में विधानसभा चुनाव छह अप्रैल को होने हैं जबकि दो मई को मतगणना होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 12:31 AM IST
  • Share this:
कोल्लम. केरल से राज्यसभा की तीन सीटों (Kerala Rajya Sabha Seats) के चुनाव कार्यक्रम को केंद्र की तरफ से कुछ मुद्दों को लेकर लाल झंडी दिखाए जाने के बाद निर्वाचन आयोग द्वारा इन्हें टाले जाने के फैसले पर केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बृहस्पतिवार को कड़ी आपत्ति जताई. राज्यसभा की तीन सीटों के लिये चुनाव को टालने के निर्वाचन आयोग के फैसले के एक दिन बाद उनकी यह प्रतिक्रिया आई.

इन तीन सीटों पर फिलहाल आईयूएमएल के अब्दुल वहाब, माकपा के केके राजेश और कांग्रेस के वायलार रवि काबिज हैं. ये तीनों राज्यसभा सदस्य 21 अप्रैल को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. इन सीटों के लिये चुनाव 12 अप्रैल को होने थे और अधिसूचना बुधवार को जारी होनी थी. केरल में विधानसभा चुनाव छह अप्रैल को होने हैं जबकि दो मई को मतगणना होगी.

ये भी पढ़ें  Kerala Election: मेट्रोमैन बोले- CM बनने के लिए नहीं, लोगों की सेवा के लिए ज्वॉइन की BJP



Youtube Video

विजयन ने कहा, 'निर्वाचन आयोग ने चुनाव की प्रक्रिया शुरू कर दी थी. लेकिन अचानक इसे रोक दिया गया. इस तरह के फैसले को सिर्फ देश के लोकतंत्र और संविधान पर हमले के तौर पर देखा जा सकता है.' केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाली राजग सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उसे चुनाव निकाय के मामलों में दखल देने का कोई अधिकार नहीं है.

ये भी पढ़ें  सोशल मीडिया से सीखकर की मिट्टी का तेल से बालों को स्ट्रेट करने की कोशिश, मौत

मुख्यमंत्री ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि संविधान के अनुच्छेद 324 में कहा गया है कि संसद, राज्य विधानसभा, राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति का चुनाव कराने के अधीक्षण, निर्देशन और नियंत्रण की शक्ति निर्वाचन आयोग में निहित हैं. उन्होंने आरोप लगाया, '…यह कहा गया है कि विधि मंत्रालय के निर्देश के अनुपालन में चुनाव को टाला गया है.'

इस कदम को अनुच्छेद 324 का उल्लंघन करार देते हुए विजयन ने इस फैसले के पीछे का कारण जानना चाहा. मामले के बारे में जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि विधि मंत्रालय ने केरल में छह अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनावों को निर्दिष्ट किया और पूछा कि क्या वैधानिक रूप से यह कवायद संभव है जहां निवर्तमान विधानसभा के सदस्य राज्यसभा के सदस्यों के लिये मतदान कर सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज