लाइव टीवी
Elec-widget

केरल के चर्च ने खोला पुनर्विवाह के लिए वैवाहिक पोर्टल

News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 3:27 PM IST
केरल के चर्च ने खोला पुनर्विवाह के लिए वैवाहिक पोर्टल
सांकेतिक तस्वीर

प्रोलाइफमैरी.कॉम कैथोलिक चर्च के तहत आने वाली सैकड़ों विधवा महिलाओं के लिए आशा की किरण है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 3:27 PM IST
  • Share this:
(मीरा मनु)

तिरुंतपुरम. कहा जाता है कि 'कभी नहीं से देर भली' और यह चरितार्थ होता दिखाई दिया जब पिछले सितम्बर में केरल में कैथोलिक चर्च ने लगभग 3000 पुरुषों और महिलाओं को कोझिकोड के एक स्टेडियम में इकठ्ठा किया. मकसद था ये सभी लोग अपने लिए जीवन साथी तलाश सकें.

लगभग सभी की उम्र 35 वर्ष से ऊपर थी और आयोजनकर्ता यह देखकर हैरान थे कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों की संख्या काफी ज्यादा थी और इस लिस्ट में महिलाओं से 2800 पुरुष ज्यादा थे. इस आयोजन के कुछ महीनों बाद चर्च ने विधवा विवाह के लिए एक वैवाहिक पोर्टल खोला ताकि वह नयी शुरुआत कर सकें और अच्छा जीवन जी सकें.

प्रोलाइफमैरी.कॉम कैथोलिक चर्च के तहत आने वाली सैकड़ों विधवा महिलाओं के लिए आशा की किरण है. यह वैवाहिक वेबसाइट चर्च के दो आयामी प्लान का हिस्सा है जिसमें अविवाहित पुरुषों की बढ़ती संख्या को कम करना और साथ ही साथ विधवाओं की बढ़ती जनसंख्या की समस्या से निपटना भी है.

केसीबीसी फॅमिली कमीशन के सेक्रेटरी फादर पॉल मदसेरी न्यूज़ 18 को बताते हैं, 'राष्ट्रीय जनगणना के अनुसार सभी वर्गों में लैंगिक अनुपात में गिरावट देखी गयी है. 35 वर्ष से अधिक आयु के ज्यादातर पुरुष अविवाहित हैं क्योंकि उच्च शिक्षित महिलाओं में अपने लिए सही साथी का चुनाव काफी मुश्किल लगता है. वहीँ अपने से कम शिक्षित पुरुषों से विवाह करने में महिलाओं को कोई दिलचस्पी नहीं है. इन सबके बीच दहेज़ की समस्या भी अपनी जगह है. फिर भी कुछ पुरुष इसके लिए तैयार हैं अगर उनका साथी सभी जिम्मेदारियों से मुक्त होकर जीवन में नयी शुरुआत करना चाहता है. इसीलिए एक वैवाहिक पोर्टल खोलने का विचार मन में आया.'

यह वेबसाइट कैथोलिक चर्च की विधवा फोरम की वैवाहिक शाखा है. यह फोरम उन विधवा महिलाओं को भावनात्मक, सामाजिक, आर्थिक, शारीरिक और मानसिक रूप से सशक्त बनाने के लिए है जिनका जीवन अपने जीवन साथी की मृत्यु के बाद वीरान हो गया है. यह पोर्टल पांच में से एक जोन, मालाबार जोन के लोगों के लिए है जो केरल के उत्तरी ज़िलों में फैला हुआ है. चर्च की योजना है कि भविष्य में बाकी के चार जोन कोट्टायम, एर्नाकुलम, कोल्लम और थ्रिसूर में भी यह सेवा प्रारम्भ की जाए. कैथोलिक चर्च लैटिन, मालंकारा और सीरो मालाबार हिस्सों का एक मंडल है.

ये भी पढ़ें:
Loading...

विधानसभा चुनाव 2020: दिल्ली में होगी हवा, पानी और बिजली पर जंग!

भारत से मेहंदी, सहजन खरीदने में बढ़ी चीन की रुचि, जानें वजह...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 3:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...