केरल : हथिनी की मौत पर बोले CM पिनराई विजयन- तीन संदिग्‍धों पर टिकी हमारी नजर

केरल : हथिनी की मौत पर बोले CM पिनराई विजयन- तीन संदिग्‍धों पर टिकी हमारी नजर
27 मई को केरल में प्रेग्नेंट हथिनी की विस्फोटक अनानास खाने से मौत हो गई थी.

सीएम पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने ट्वीट कर कहा कि हमारी नजर तीन संदिग्‍धों पर टिकी हुई है. हथिनी की मौत के लिए जो भी जिम्मेदार होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

  • Share this:
मलप्पुरम. केरल के पलक्कड जिले के साइलेंट वैली फॉरेस्ट में एक प्रेग्नेंट हथिनी (Pregnant Elephant) को पटाखे से भरा अनानास खिलाकर मार दिए जाने की घटना को लेकर मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) का बयान आया है. सीएम विजयन ने ट्वीट कर कहा कि हमारी नजर तीन संदिग्‍धों पर टिकी हुई है. इस अपराध के लिए जो भी जिम्मेदार होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

सीएम विजयन ने ट्वीट किया, 'पलक्कड़ जिले में एक दुखद घटना में एक गर्भवती हथिनी की जान चली गई. इसको लेकर लोगों में काफी गुस्सा है. लेकिन मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि आपकी चिंताएं व्यर्थ नहीं जाएंगी. न्याय की जीत होगी.' मुख्यमंत्री ने कहा, 'तीन संदिग्धों पर नजर टिकी है. पुलिस और वन्यजीव अपराध जांच दल की संयुक्त टीम इस घटना की जांच करेगी. जिला पुलिस प्रमुख और जिला वन अधिकारी ने आज घटनास्थल का दौरा किया. हम दोषियों को कड़ी सजा दिलाने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे.'







केंद्र सरकार ने मांगी रिपोर्ट
बता दें कि इस घटना पर केंद्र सरकार ने भी संज्ञान लिया है. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केरल सरकार से इस मामले में डिटेल रिपोर्ट मांगी है. जिसके बाद केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने हथिनी की मौत के मामले में जांच के आदेश दिए. उन्होंने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का भरोसा दिलाया. पटाखे खा लेने की वजह से हथिनी के मुंह और पेट में चोटें आईं थीं और तीन दिन बाद उसकी मौत हो गई थी.

क्या था पूरा मामला?
दरअसल, ये गर्भवती हथिनी खाने की तलाश में भटकते हुए 25 मई को जंगल से पास के गांव में आ गई थी. गर्भवती होने के कारण उसे अपने बच्चे के लिए खाने की जरूरत थी, उसी समय कुछ लोगों ने उसे अनानास खिला दिया. खाते ही उसके मुंह में विस्फोट हुआ, जिसके कारण उसका जबड़ा बुरी तरह से फट गया और उसके दांत भी टूट गए. दर्द से तड़प रही हथिनी को जब कुछ समझ नहीं आया, तो वह वेलियार नदी में जा खड़ी हुई. अपने दर्द को कम करने के लिए वह पूरे समय बस बार-बार पानी पीती रही. हथिनी का दर्द इतना था कि वह तीन दिन तक नदी में सूंड डालकर खड़ी रही. आखिर वह जिंदगी की जंग हार ही गई और उसकी मौत हो गई. वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार इसकी उम्र 14-15 साल थी. अधिकारियों ने बताया कि समय पर उस तक मदद नहीं पहुंचाई जा सकी. हथिनी की जानकारी मिलने पर वन विभाग के कर्मचारी उसे रेस्क्यू करने पहुंचे. लेकिन वो पानी से बाहर नहीं आई और शनिवार को उसकी मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें:-

प्रेग्नेंट हथिनी को पटाखा खिलाकर मारने पर फूटा लोगों का गुस्सा, केंद्र ने केरल सरकार से मांगी डिटेल रिपोर्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading