• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • केरल: कांग्रेस में अब नए गुट का बोलबाला, रमेश चेन्नीथला को किया गया किनारा

केरल: कांग्रेस में अब नए गुट का बोलबाला, रमेश चेन्नीथला को किया गया किनारा

इस साल के विधानसभा चुनाव तक पार्टी पर रमेश चेन्नीथला की ज़बरदस्त पकड़ थी. (फ़ाइल फोटो)

इस साल के विधानसभा चुनाव तक पार्टी पर रमेश चेन्नीथला की ज़बरदस्त पकड़ थी. (फ़ाइल फोटो)

Kerala Congress: केरल में 18 सालों तक कांग्रेस में चेन्नीथला और पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी का बोलबाला रहा. कहा जा रहा है कि डीसीसी प्रमुखों के चयन को लेकर चेन्निथला नाराज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    कोच्चि. कांग्रेस की केरल इकाई (Congress Kerala Unite) में बदलते सत्ता समीकरणों ने पार्टी के वरिष्ठ नेता रमेश चेन्नीथला (Ramesh Chennithala) को झटका दिया है. इस साल के विधानसभा चुनाव तक पार्टी पर उनकी ज़बरदस्त पकड़ थी. 65 वर्षीय पूर्व विपक्ष के नेता चेन्नीथला को दरकिनार करते हुए राज्य इकाई में एआईसीसी महासचिव के सी वेणुगोपाल, केपीसीसी अध्यक्ष के सुधाकरन और विपक्ष के नेता वी डी सतीशन सहित एक नए पावर सेंटर का उदय हुआ है. जिला कांग्रेस कमेटी (डीसीसी) के प्रमुखों की नियुक्तियों के बाद इन तीन नेताओं ने केरल कांग्रेस पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है. केरल में 18 सालों तक कांग्रेस में चेन्नीथला और पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी का बोलबाला रहा.

    कहा जा रहा है कि डीसीसी प्रमुखों के चयन को लेकर चेन्निथला नाराज़ हैं. लेकिन, उन्हें ये साफ कर दिया गया है कि पार्टी में गुटबाजी के दिन खत्म हो गए हैं. साथ ही पार्टी ने इस बात के भी संकेत दिए हैं कि अब वो भविष्य को ध्यान में रखकर काम कर रही है. चेन्नीथला के करीबी सूत्र पार्टी के इस फैसले से बेहद नाराज़ है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से उन्होंने कहा है कि वेणुगोपाल, सुधाकरन और सतीशन ये धारणा बनाने की कोशिश कर रहे हैं कि पार्टी में उनके दिन खत्म हो गए हैं.

    ये भी पढ़ें:- पटना से लेकर इंदौर तक में फ्लैट, विदेश यात्रा; 12 घंटे तक चली रेड में धन कुबेर अफसर के पास अकूत संपत्ति के सबूत

    चेन्निथला ने बुधवार को केपीसीसी सचिव पीएस प्रशांत के निष्कासन के खिलाफ वेणुगोपाल की आलोचना की. इस बीच पार्टी ने डीसीसी प्रमुखों की नई सूची के खिलाफ टिप्पणी करने के आरोप में दो वरिष्ठ नेताओं को निलंबित कर दिया है. ये दोनों चेन्निथला के वफादार हैं. हालांकि, चेन्निथला के खिलाफ सार्वजनिक रूप से बोलने वाले नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई शुरू नहीं की गई है.

    चेन्नीथला ने कहा, ‘लोगों को ये तय करने दें कि अनुशासनात्मक कार्रवाई के संबंध में दोहरा मापदंड है या नहीं. मैंने अपनी चिंताओं से पार्टी नेतृत्व को पहले ही अवगत करा दिया है. एक संगठनात्मक चुनाव पार्टी में सभी मुद्दों का उपाय है. चुनाव के समय आलाकमान को तय करने दें. केरल में पहले ऐसा किया गया किया गया है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज