OLX पर बिक्री के लिए डाला गया ‘केरल कांग्रेस’ का ऑफिस

KPCC Office in OLX
KPCC Office in OLX

बता दें कि केरल कांग्रेस में पिछले दिनों तब उथल पुथल शुरू हो गई जब पार्टी ने राज्यसभा की एक सीट केरल कांग्रेस (एम) को देने का फैसला किया.

  • Share this:
केरल में कांग्रेस के भीतर राज्यसभा सीट को लेकर घमासान के बीच वहां किसी ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी का ऑफिस (केपीसीसी) को ओएलएक्स पर बिक्री के लिए डाल दिया. दरअसल केरल कांग्रेस के कई नेता यहां राज्यसभा सीट कांग्रेस (एम) को 'उपहार' में दिए जाने को लेकर पार्टी के सीनियर नेताओं से बेहद खफा हैं. इसी बीच ओएलएक्स पर यह विज्ञापन देखा गया.

ओएलएक्स पर अनीश नाम के व्यक्ति ने यह विज्ञापन दिया है, जिसमें तिरुवनंतपुरम के सस्थमंगलम इलाके में स्थित इंदिरा भवन के लिए 10 हजार रुपये कीमत रखी गई है. विज्ञापन में कांग्रेस ऑफिस की तस्वीर और एरिया के बारे में बताने के साथ कहा गया है कि यह पूरी तरह तैयार है.

KPCC Office in OLX




विज्ञापन कांग्रेस द्वारा सहयोगी पार्टियों के तुष्टीकरण पर भी तंज मारता हुआ नजर आता है, क्योंकि इसमें  ऑफिस को खरीदने के लिए इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) अथवा केरल कांग्रेस (एम) से संपर्क करने के लिए कहा गया है.
बता दें कि केरल कांग्रेस में पिछले दिनों तब उथल-पुथल शुरू हो गई जब पार्टी ने राज्यसभा की एक सीट केरल कांग्रेस (एम) को देने का फैसला किया, केरल कांग्रेस (एम) दो साल बाद यूडीएफ गठबंधन में वापस लौटी है. वर्तमान में इस सीट से राज्यसभा के उपसभापति पीजे कुरियन सांसद हैं जो कि 1 जुलाई को रिटायर हो जाएंगे.

केरल कांग्रेस (एम) ने इस सीट से पार्टी प्रमुख केएम मणी के बेटे जोस के मणि को मैदान में उतारा है. केरल कांग्रेस (एम) जोस के मणि को राज्यसभा उम्मीदवार बनाए जाने से कांग्रेस के नेता और ज्यादा नाराज हो गए हैं. कांग्रेस नेताओं का मानना है कि होजे़ के मणि के स्थान पर पार्टी का कोई सीनियर नेता उम्मीदवार होना चाहिए था.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लिखे एक पत्र में छह युवा विधायकों ने अपनी परेशानियों को व्यक्त किया है. पत्र में लिखा गया है, "मैं केरल नेताओं के केरल कांग्रेस (एम) पार्टी को राज्यसभा सीट देने के फैसले पर अत्यंत निराशा और मजबूत विरोध व्यक्त करता हूं. केरल कांग्रेस (एम) यूडीएफ का एक घटक भी नहीं है. इस फैसले ने केरल के साधारण कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भावनाओं को धोखा दिया है. यह उनका अपमान है, इसलिए मैं उन सभी नेताओं से आग्रह करता हूं कि जल्द से जल्द इस विनाशकारी निर्णय पर पुनर्विचार करें और आगामी चुनाव के लिए कांग्रेस उम्मीदवार खुद को मैदान में रखें.

पूर्व केपीसीसी अध्यक्ष वीएम सुधीरन ने भी इस फैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी और कहा, “राज्यसभा सीट देने का फैसला निराशाजनक है. इस मूर्खतापूर्ण निर्णय पर कांग्रेस कार्यकर्ता हताश और निराश हैं. कांग्रेस के लिए यह निर्णय किसी आपदा की तरह हो सकता है, जिसका फायदा बीजेपी को होगा. यह बिना किसी चर्चा के लिया गया एकपक्षीय निर्णय है.

बता दें कि कांग्रेस नेता मुख्य तौर पर चेनिथला और केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी के खिलाफ अंगुली उठा रहे हैं. सोमावार को केरल में केपीसीसी की राजनीतिक समीति की मीटिंग होने वाली है जिसमें और ज्यादा हंगामा होने की संभावना जताई जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज