होम /न्यूज /राष्ट्र /केरल में कम नहीं हो रहे कोरोना के मामले, 21000 से अधिक नए केस, 127 मरीजों की मौत

केरल में कम नहीं हो रहे कोरोना के मामले, 21000 से अधिक नए केस, 127 मरीजों की मौत

केरल के कोझिकोड में निगम कर्मचारियों के स्वैब सैम्पल लेते स्वास्थ्यकर्मी. (फाइल फोटो)

केरल के कोझिकोड में निगम कर्मचारियों के स्वैब सैम्पल लेते स्वास्थ्यकर्मी. (फाइल फोटो)

Kerala Coronavirus Update: केरल में अभी तक कुल 35,29,465 लोग कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हुए हैं, जबकि 1,75,167 मरीजो ...अधिक पढ़ें

    तिरुवनंतपुरम. केरल में कोरोना वायरस संक्रमण के मंगलवार को 21,613 नए मामले आने के साथ ही राज्य में अभी तक कुल 37,03,578 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. राज्य सरकार द्वारा आज जारी बुलेटिन के अनुसार, संक्रमण से 127 और लोगों की मौत हुई है. राज्य में अभी तक कुल 18,870 लोगों की मौत संक्रमण से हुई है.

    बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अभी तक कुल 35,29,465 लोग कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हुए हैं, जबकि 1,75,167 मरीजों का फिलहाल उपचार चल रहा है. बुलेटिन के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 1,39,623 नमूनों की जांच हुई है. संक्रमण के नए मामलों में से 92 स्वास्थ्यकर्मी हैं, 92 राज्य के बाहर से आए हैं, संक्रमितों के संपर्क में आने से 20,248 लोग बीमार हुए हैं, जबकि 1,181 लोगों के संक्रमण का स्रोत ज्ञात नहीं है.

    3 साल से कम उम्र के बच्चे से कोविड होने का खतरा 1.4 गुना ज्यादा- स्टडी

    इस बीच, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कोविड-19 प्रबंधन को लेकर मंगलवार को केरल की वाम लोकतांत्रिक मोर्चे (एलडीएफ) की सरकार को खरी-खरी सुनाई और कहा कि इसके लिए उसकी राजनीतिक उदासीनता जिम्मेदार है. उन्होंने कोविड प्रबंधन को लेकर केरल सरकार की जमकर आलोचना की और कहा कि वहां की वामपंथी सरकार जिस ‘केरल मॉडल’ की दुहाई दे रही थी वह दरअसल उसके कुप्रबंधन का मॉडल है.

    COVID-19: केरल पहुंचे केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ने क्यों की पिनराई विजयन सरकार की तारीफ

    उन्होंने कहा, ‘आज कहां है वह मॉडल? क्या गलती हुई जो औसतन 20 हजार संक्रमण के मामले रोज यहां आ रहे हैं. आज भी एक लाख से अधिक संक्रमण के मामले हैं केरल में. यह कोविड प्रबंधन नहीं हैं बल्कि कुप्रबंधन है. यह केरल मॉडल नहीं है, बल्कि कुप्रबंधन का मॉडल है.’ उन्होंने दावा किया कि केरल में कोविड-19 की 70 प्रतिशत से अधिक एंटीजन जांच की गई, जबकि जांच का सबसे बेहतर तरीका आरटी पीसीआर है.

    केरल में बढ़ते संक्रमण के मामलों के लिए उन्होंने इसे भी एक कारक बताया. उन्होंने कहा, ‘कोविड प्रबंधन में सरकार को अतिसक्रिय भूमिका निभानी थी, जो केरल की वामपंथी सरकार ने नहीं निभाई.’ उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे भाजपा शासित राज्यों के साथ केरल की तुलना करते हुए उन्होंने कहा कि केरल से अधिक आबादी होने के बावजूद इन प्रदेशों ने बेहतर कोविड प्रबंधन किया.

    Tags: Coronavirus, Kerala

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें