Assembly Banner 2021

केरल चुनाव 2021: वोटर लिस्ट में गड़बड़ी करने के आरोपों को CM पिनराई विजयन ने नकारा

 केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने विपक्ष के आरोपों को खारिज कर दिया है.

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने विपक्ष के आरोपों को खारिज कर दिया है.

Kerala Assembly Elections 2021: केरल की सभी विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे, जबकि मतों की गिनती 2 मई को होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 4:49 PM IST
  • Share this:

तिरुवनंतपुरम. केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Kerala Chief Minister Pinarayi Vijayan)  ने राज्य की मतदाता सूची में दो या उससे भी ज्यादा बार एक ही व्यक्ति का नाम दर्ज किए जाने के मामले में षड्यंत्र के विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए मंगलवार को कहा कि घटना के पीछे कोई 'सोची-समझी चाल' नहीं है.


गौरतलब है कि मुख्यमंत्री का बयान आने से एक दिन पहले राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने माना था कि विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला की शिकायत पर जांच कराए जाने के बाद मतदाता सूची में दो बार पंजीकरण के मामले सामने आए हैं. केरल की सभी विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे, जबकि मतों की गिनती 2 मई को होगी.


ये भी पढ़ें :- Kerala Elections 2021: सभी सीटों के वोटर लिस्ट की होगी जांच, चुनाव अधिकारी ने दिया आदेश


मुख्यमंत्री ने कहा कि यह स्पष्ट हो चुका है कि जिन महिलाओं का नाम मतदाता सूची में कई जगह पंजीकृत मिला है वे कांग्रेस समर्थक हैं और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनका नाम शामिल कराया था. विजयन ने अलप्पुझा में पत्रकारों से कहा कि चेन्नीथला दरअसल अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा मतदाता सूची में कराए गए दोहरे-तिहरे पंजीकरण के खिलाफ आरोप लगा रहे हैं.


ये भी पढ़ें:- Bengal Elections 2021: पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, कमल को दिया गया वोट दीदी के पापों की सजा भी होगी


केरल विधानसभा की सभी 140 विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. केरल में एक ही चरण में चुनाव कराए जा रहे हैं. केरल में 1980 के बाद से सत्ता पर काबिज होने के बाद किसी भी राजनीतिक दल या गठबंधन को दोबारा जीत नहीं मिली है. आसान भाषा में समझें, तो यहां हर पांच साल बाद सत्ता परिवर्तन हुआ है. सीपीआई (एम) के नेतृत्व वाली एलडीफ और कांग्रेस नेतृत्व वाली यूडीएफ ने अलग-अलग कार्यकालों में राज्य में 3 दशक तक शासन किया है.






140 विधानसभा सीटों वाले केरल में 71 सीटें जीतने वाली पार्टी बहुमत हासिल करेगी. एशियानेट न्यूज सीफोर सर्वे बताता है कि इस चुनाव में एलडीएफ 72-78 सीटें तक अपने नाम कर सकता है. वहीं, यूडीएफ को 59-65 सीटें मिलने का अनुमान है. सर्वे के आंकड़ों की मानें, तो राज्य में बीजेपी 3-7 सीटों के साथ तीसरी पार्टी बनेगी. सर्वे के अनुमान के मुताबिक, एलडीएफ उत्तरी और दक्षिण केरल में यूडीएफ (UDF) पर बढ़त हासिल करेगी. वहीं, यूडीएफ राज्य के केंद्रीय क्षेत्रों में मजबूत रह सकती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज