अपना शहर चुनें

States

केरल: निकाय चुनाव के पहले चरण का आगाज, मतदाताओं ने किया कोविड नियमों का पालन

केरल में निकाय चुनाव शुरू हो चुके हैं. (सांकेतिक फोटो)
केरल में निकाय चुनाव शुरू हो चुके हैं. (सांकेतिक फोटो)

Kerala Election: चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि 11,225 मतदान केंद्रों में से 320 को संवेदनशील घोषित किया गया है और वहां पर ‘वेबकास्टिंग’ की व्यवस्था की गयी है. दूसरे चरण का मतदान 10 दिसंबर को होगा.

  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. केरल के पांच जिलों में तीन स्तरीय स्थानीय निकाय चुनाव (Kerala local body elections) का पहला चरण शांतिपूर्ण तरीके से मंगलवार को शुरू हुआ. सत्तारूढ़ माकपा (CPM) नेतृत्व वाला एलडीएफ, कांग्रेस (Congress) नीत यूडीएफ और भाजपा (BJP) नीत राजग (NDA) चुनावी मुकाबले में है. तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पत्तनमथिट्टा, अलप्पुझा और इडुकी जिलों में 395 स्थानीय निकायों के 6910 वार्ड के लिए मुकाबले में 24,583 उम्मीदवार हैं.

स्थानीय निकाय के पहले चरण में दो निगम- तिरुवनंतपुरम और कोल्लम, 20 नगरपालिका, 318 ग्राम पंचायतों, 50 ब्लॉक पंचायतों और पांच जिला पंचायतों में चुनाव हो रहा है. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक सुबह 8.45 बजे तक 7.53 प्रतिशत मतदान हुआ. तिरुवनंतपुरम में 6.97 प्रतिशत, कोल्लम में 7.67 प्रतिशत, पत्तनमथिट्टा में 8.13 प्रतिशत, अलप्पुझा में 7.90 प्रतिशत और इडुक्की में 7.2 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया.

शुरुआती घंटे में सभी पांचों जिलों में मतदान शांतिपूर्ण रहा और कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है. बारिश के बावजूद सुबह सात बजे मतदान शुरू होने पर तिरुवनंतपुरम के कई वार्ड में मतदाताओं की लंबी कतारें नजर आयीं. गांव हो या शहर, हर जगह मतदाता मास्क पहने हुए और कोविड-19 के संबंध में उचित दूरी के नियमों का पालन करते हुए दिखे.



यह भी पढ़ें: केरल में पुलिस एक्ट में बड़ा बदलाव, अपशब्द पर भी होगी सजा; CM बोले- अभिव्यक्ति की आजादी के खिलाफ नहीं
90 वर्षीय मतदाता की मौत
पत्तनमथिट्टा जिले के रन्नी में 90 वर्षीय मतदाता मतायी अपना मत डालने के बाद अचेत हो गए और उनकी मौत हो गयी. कोविड-19 से संक्रमित मतदाता या आइसोलेशन में रह रहे वोटर अपने-अपने मतदान केंद्रों पर शाम में मतदान कर पाएंगे. राज्य के मंत्री कडाकमपल्ली सुरेंद्रन और ए सी मोइद्दीन ने एलडीएफ की जीत के प्रति विश्वास जताया. मोइद्दीन ने कहा कि हालिया विवादों से सत्तारूढ़ मोर्चे के प्रदर्शन पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

विपक्षी कांग्रेस के नेता रमेश चेन्नीतला ने कहा कि चुनाव के नतीजे पिनराई विजयन के नेतृत्व वाली सरकार के साढ़े चार साल के कामकाज पर जनादेश होगा. वरिष्ठ नेता कुम्मानम राजशेखरन ने कहा कि निकाय चुनावों में भाजपा की जीत होगी. राज्य चुनाव आयोग द्वारा जारी नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक पांचों जिलों में कुल 88, 26,873 मतदाता हैं. इनमें 46,68,267 महिला और 61 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं.



चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि 11,225 मतदान केंद्रों में से 320 को संवेदनशील घोषित किया गया है और वहां पर ‘वेबकास्टिंग’ की व्यवस्था की गयी है. सत्तारूढ़ माकपा नीत वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) ने विजयन के नेतृत्व वाली सरकार के साढ़े चार साल के कार्यकाल के दौरान की उपलब्धियों पर ध्यान केंद्रित किया है. दूसरे चरण में 10 दिसंबर को एर्नाकुलम, कोट्टायम, त्रिसूर, पालक्कड़ और वायनाड में चुनाव होगा. तीसरे चरण में 14 दिसंबर को मलप्पुरम, कोझिकोड, कन्नूर और कासरगोड़ में चुनाव होगा. मतगणना 16 दिसंबर को होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज