LIVE NOW

केरल बाढ़ LIVE: बारिश थमी तो तेज हुआ बचाव कार्य, राहत शिविरों में भेजे गए 7 लाख लोग

बाढ़ से हुए करीब 19, 220 करोड़ के नुकसान को देखते हुए पीएम ने केरल के लिए केंद्र की तरफ से 500 करोड़ की राशि देने का ऐलान किया है. इससे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 100 करोड़ की सहायता देने का ऐलान कर चुके हैं.

Hindi.news18.com | August 21, 2018, 8:42 AM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated August 21, 2018

हाइलाइट्स

8:42 am (IST)
बाढ़ के हालातों पर चर्चा के लिए केरल सरकार ने शाम चार बजे सभी दलों की मीटिंग बुलाई है.

 

 


7:50 am (IST)
केरल में हीरोज की कमी नहीं है. दुखद यह है कि वे हमें तभी दिख रहे हैं जब राज्य एक भीषण त्रासदी से गुजर रहा है. प्रदेश में बारिश और बाढ़ से तबाही मची हुई है, 370 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. यह सौ सालों में केरल में सबसे बड़ी त्रासदी है.

 

7:49 am (IST)
केंद्रीय पर्यटन और सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्री अल्फोंस कन्ननथानम कहा कि आपदा प्रबंधन कानून तब पारित किया गया था, जब केंद्र में कांग्रेस के नेतृत्व में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) की सरकार थी. कांग्रेस जब 2004-14 तक सत्ता में थी, तो किसी भी आपदा को राष्ट्रीय आपदा घोषित नहीं किया गया था.

 

7:46 am (IST)

एक तरफ केरल बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की जा रही है. दूसरी तरफ सरकार के मंत्री बेतुका बयान दे रहे हैं. केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्ननथानम ने केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की कांग्रेस नेताओं की मांग को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन कानून 2005 में ऐसा करने का प्रावधान नहीं है.

 

7:43 am (IST)
  
बारिश और बाढ़ की मार झेल रहे केरल के लिए दूसरे देश भी मदद का हाथ बढ़ा रहे हैं. पहले संयुक्त अरब अमीरात और कतर ने बाढ़ राहत के लिए सहायता राशि दी. अब मालदीव ने भी मदद का हाथ बढ़ाया है. मालदीव सरकार ने केरल बाढ़ राहत के लिए 50 हजार डॉलर की मदद देने का ऐलान किया है.


7:35 am (IST)
‘‘ईश्वर उनका भला करे’’. खुद को मिल रही मदद के लिए बाढ़ पीड़ित मारिया फ्रांसिस अपनी लड़खड़ाती जुबान में इन्हीं शब्दों के साथ उन मददगार लोगों का शुक्रिया अदा करती हैं. मारिया फ्रांसिस, सदी की सबसे भीषण बाढ़ का सामना कर रहे केरल में बाढ़ पीड़ित विस्थापितों के लिए बने एक राहत शिविर में रह रही हैं.

 

LOAD MORE
केरल के मुख्यमंंत्री पी विजयन ने रविवार को रेस्क्यू में जुटी टीमों, केंद्र सरकार और सीएम रिलीफ फंड के लिए मदद का हाथ बढ़ाने वाली आम जनता का आभार जताया. विजयन ने कहा कि केंद्र सरकार ने अधिक मदद का आश्वासन दिया है. इस बीच अलुवा और कलडी में ईंधन की कमी के चलते रेस्क्यू ऑपरेशन प्रभावित हो रहा है. वहीं गलत व्यक्तियों के रेस्क्यू के लिए आने वाले संदेश सरकार के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं. विजयन ने कहा कि ऐसे संदेश रेस्क्यू ऑपरेशन को प्रभावित करते हैं इसलिए आम जनता को इन्हें भेजने से बचना चाहिए. वहीं केरल में बचाव कार्य को दुनिया का सबसे बड़ा बचाव अभियान बताते हुए केंद्रीय मंत्री केजे एल्फोंस ने कहा कि बुरा वक्त अभी टला नहीं है.

इससे पहले बाढ़ से जूझ रहे केरल में शुक्रवार और शनिवार को बारिश में कमी के बाद सरकार ने राज्य के सभी 14 जिलों से रेड अलर्ट हटा लिया है. वहीं 10 जिलों में फिलहाल ऑरेंज अलर्ट, जबकि दो में येलो अलर्ट जारी है. इस बीच केरल राज्य परिवहन निगम ने केरल और कर्नाटक के बीच बस सेवाएं दोबारा शुरू करने की घोषणा की है.

बता दें कि यहां 8 अगस्त से जारी भारी बारिश, लैंडस्लाइड और बाढ़ में मौतों का कुल आंकड़ा बढ़कर 357 हो गया है. शनिवार को 33 और शव मिले. लैंडस्लाइड और बाढ़ से करीब तीन लाख से ज्यादा लोग लोग बेघर हो गए हैं. संयुक्त अरब अमीरात के बाद अब कतर ने भी केरल के लिए मदद का हाथ बढ़ाया है. केरल को बाढ़ राहत के लिए कतर 5 मिलियन डॉलर (करीब 35 करोड़ रुपये) देगा.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से मुलाकात की. इसके बाद उन्होंने बाढ़ के हालातों का हवाई सर्वे भी किया. बाढ़ से हुए करीब 19, 220 करोड़ के नुकसान को देखते हुए पीएम ने केरल के लिए केंद्र की तरफ से 500 करोड़ की राशि देने का ऐलान किया है. इससे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 100 करोड़ की सहायता देने का ऐलान कर चुके हैं.

केरल में बारिश और बाढ़ से जुड़ी खबरें और अपडेट्स के लिए बने रहें News18Hindi के साथ...

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज