केरल सोना तस्करी मामलाः आरोपियों का दाऊद इब्राहिम की डी-कंपनी के साथ कनेक्शन का शक

कस्टम विभाग ने 30 जुलाई को तिरुवनंतपुरम में UAE वाणिज्य दूतावास के एक अधिकारी के नाम पर आई एक खेप से 30 किलोग्राम सोना जब्त किया था.
कस्टम विभाग ने 30 जुलाई को तिरुवनंतपुरम में UAE वाणिज्य दूतावास के एक अधिकारी के नाम पर आई एक खेप से 30 किलोग्राम सोना जब्त किया था.

Kerala gold smuggling case: सोना तस्करी मामले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तारी से बचने के लिये राज्य के मुख्यमंत्री के पूर्व प्रधान सचिव एम शिवशंकर ने बुधवार को उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर अग्रिम जमानत का अनुरोध किया. शिवशंकर ने अपनी याचिका में कहा है कि एक जिम्मेदार सरकारी सेवक के रूप में उन्होंने अपराध की जांच में अधिकतम सहयोग किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 10:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केरल (Kerala) में सोना तस्करी (Gold Smuggling) मामले में स्पेशल कोर्ट में 7 आरोपियों की जमानत याचिकाओं पर बुधवार को सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान मामले की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि उन्हें संदेह है कि आरोपियों के दाऊद इब्राहिम की डी-कंपनी के साथ संबंध हैं.

वहीं, दूसरी तरफ सोना तस्करी मामले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तारी से बचने के लिये राज्य के मुख्यमंत्री के पूर्व प्रधान सचिव एम शिवशंकर ने बुधवार को उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर अग्रिम जमानत का अनुरोध किया. शिवशंकर ने अपनी याचिका में कहा है कि एक जिम्मेदार सरकारी सेवक के रूप में उन्होंने अपराध की जांच में अधिकतम सहयोग किया है.

शिवशंकर से हुई है 90 घंटे से ज्यादा देर तक पूछताछ
उन्होंने कहा कि उन्हें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विभिन्न आरोपियों और गवाहों द्वारा दिये गये बयानों से आमना-सामना कराने के लिये उन्हें कई बार तलब किया. शिवशंकर ने कहा कि पिछले एक माह में विभिन्न एजेंसियों ने उनसे 90 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की है, लेकिन उनके खिलाफ अदालत में किसी (जांच एजेंसी) ने रिपोर्ट नहीं सौंपी. उन्होंने अपनी याचिका में कहा कि उन्हें इस बात की पूरी आशंका है कि जांच एजेंसी ‘मीडिया ट्रायल’ के चलते अत्यधिक दबाव में है.
कई अधिकारियों के नाम भी आए सामने


जैसे-जैसे मामला बढ़ा मंत्री की मुसीबतें भी बढ़ती गईं बाद में ये बात भी सामने आई कि 4 मार्च को 31 बैग में भारी खेप आई थी जिसका वजन 4,000 किलोग्राम से अधिक था और उन्हें मलप्पुरम ले जाया गया था. बाद में मंत्री ने स्वीकार किया कि वे इन पैकेटों को अपने निर्वाचन क्षेत्र में ले गए और उनमें केवल धार्मिक पुस्तक थी. लेकिन विपक्षी कांग्रेस और बीजेपी ने आरोप लगाया कि उन पैकेट में सोना था और जलील बस गुमराह करने ले लिए धार्मिक पुस्तकों का नाम ले रहे हैं.

कस्टम विभाग ने 30 जुलाई को तिरुवनंतपुरम में UAE वाणिज्य दूतावास के एक अधिकारी के नाम पर आई एक खेप से 30 किलोग्राम सोना जब्त किया था. बाद में यह मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंप दिया गया और कम से कम चार अन्य केंद्रीय एजेंसियां इसमें लगी हुई हैं. इस मामले में अब तक 30 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है इसके दो वरिष्ठ अधिकारियों, सीएम के प्रमुख सचिव एम शिवशंकर और सीएम के आईटी साथी अरुण बालचंद्रन को उनका नाम अभियुक्तों के साथ आने उनके पद से हटा दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज