ट्रायल स्थगित कराना चाहता था रेप का आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल, HC ने खारिज की याचिका

अदालत ने यह आदेश मुलक्कल की याचिका पर दिया. (फाइल फोटो)
अदालत ने यह आदेश मुलक्कल की याचिका पर दिया. (फाइल फोटो)

याचिका में मुलक्कल (Former Bishop Franco Mulakkal) की तरफ से कहा गया था कि उसके वकील कोरोना के हालात में कोट्टायम की अदालत में पेश नहीं हो पा रहे हैं. ऐसे में ट्रायल की प्रक्रिया दो महीने बाद की जाए जब हालात सामान्य हो जाएं. लेकिन कोर्ट ने मुलक्कल की मांग ठुकरा दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2020, 11:51 PM IST
  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. नन के साथ दुष्कर्म का आरोपी पूर्व बिशप फ्रैंको मुलक्कल (Former Bishop Franco Mulakkal) ट्रायल की प्रक्रिया को स्थगित (Adjourn) करवाना चाहता था. गुरुवार को उसकी याचिका पर सुनवाई करते हुए केरल हाईकोर्ट (Kerala High Court) ने मुलक्कल की मांग को नामंजूर कर दिया.

याचिका में मुलक्कल की तरफ से कहा गया था कि उसके वकील कोरोना के हालात में कोट्टायम की अदालत में पेश नहीं हो पा रहे हैं. ऐसे में ट्रायल की प्रक्रिया दो महीने बाद की जाए जब हालात सामान्य हो जाएं. लेकिन कोर्ट ने मुलक्कल की मांग ठुकरा दी.

इससे पहले फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ चल रही सुनवाई की खबर प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बिना अनुमति के प्रकाशित करने पर रोक लगा दी गई थी. कोट्टायम की एक अदालत ने आदेश जारी कर मामले की सुनवाई या प्रक्रिया से जुड़ी कोई भी खबर मीडिया में प्रकाशित करने पर रोक लगा दी थी.



मुलक्कल ने मामले की सुनवाई बंद कमरे में करने का अनुरोध किया था
मुलक्कल ने मामले की सुनवाई बंद कमरे में करने का अनुरोध किया था और आरोप लगाया था कि अभियोजन पक्ष ने सुनवाई के शुरुआत में गवाहों की धारा-161 के तहत हुए बयान को लीक किया जिसके बाद मीडिया ने इसके विभिन्न पहलुओं पर चर्चा शुरू कर दी.

कोट्टायम जिले में जून 2018 में दर्ज हुआ था मामला
गौरतलब है कि एक नन ने जालंधर धर्मक्षेत्र के बिशप मुलक्कल के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया है. कोट्टायम जिले में जून 2018 में दर्ज शिकायत के मुताबिक मुलक्कल ने वर्ष 2014 से वर्ष 2016 के बीच उसका यौन उत्पीड़न किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज