पूर्वजों के पापों का प्रायश्चित कर रहा है ये शख्स, किया दुनिया से अनोखा काम

पूर्वजों के पापों का प्रायश्चित कर रहा है ये शख्स, किया दुनिया से अनोखा काम
फोटो साभारः ANI

विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day 2020) के मौके पर सलीम मरीचंडी एक या दो नहीं बल्कि 2400 पौधे लगाए हैं. बता दें कि पूरे विश्व में 5 जून को पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूरी पृथ्वी पर कुछ ही लोग ऐसे हैं जो पूर्वजों की गलतियों से सीखते हैं और उसे दोहराते नहीं है. और अगर संभव हो तो उन गलतियों को सुधारने की कोशिश करते हैं. कुछ ऐसी ही गलतियों को सुधारने में लगे हुए हैं केरल (Kerala) के कोझीकोड (Kozhikode) में रहने वाले सलीम मरीचंडी.

विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day 2020) के मौके पर सलीम मरीचंडी एक या दो नहीं बल्कि 2400 पौधे (Plants) लगाए हैं. बता दें कि पूरे विश्व में 5 जून को पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत करते हुए सलीम मरीचंडी ने कहा, 'मेरे पूर्वजों ने अतीत में बहुत सारे पेड़ काटे थे. इसलिए, मैंने एक लाख पौधे लगाने का लक्ष्य बनाया है. अब तक मैंने 54,500 पौधे लगाए हैं." उन्होंने कोझिकोड के चेकोकोन्नु इलाके में वृक्षारोपण किया.

 



वृक्षारोपण बनें संस्कृति
इतना ही नहीं कई सार्वजनिक समारोह में सलीम मरीचंडी पौधों को लोगों मे बांटते हैं, ताकि लोगों को जागरूक किया जा सके. सलीम का कहना है कि वह पौधों को सार्वजनिक समारोह में बांटकर वृक्षारोपण को एक संस्कृति बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

कब और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरिआत
विश्व पर्यावरण दिवस की नींव 1972 में स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में रखी गई. 1974 में पहली बार विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया. उस वक्त इस आयोजन की थीम ‘ओनली वन अर्थ‘ रखी गई थी.

ये भी पढ़ेंः-
गणित के फॉर्मूले से सुनाए सात समंदर, तेरे नाम जैसे गाने, देखिए ये मजेदार Video

जिस पैंगोलिन की वजह से फैला कोविड-19 उसे सुरक्षा दे रहा है चीन, ये है वजह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading