केरल में बारिश का तांडव, चार की मौत और तीन लोग गायब; इन जिलों में रेड अलर्ट जारी

बारिश की तीव्रता कम हो गई है, लेकिन राज्य के तटीय इलाके में समुद्र उफान पर हैं.

News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 1:46 AM IST
केरल में बारिश का तांडव, चार की मौत और तीन लोग गायब; इन जिलों में रेड अलर्ट जारी
बारिश की तीव्रता कम हो गई है, लेकिन राज्य के तटीय इलाके में समुद्र उफान पर हैं.
News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 1:46 AM IST
केरल में एक बार फिर बारिश ने तांडव मचाना शुरू किया है. तमिलनाडु के दो मछुआरों सहित चार लोगों की मौत हो गई है और तीन अभी भी लापता हैं. केरल में बारिश जारी है और 23 जुलाई तक कासरगोड, इडुक्की, कोझीकोड और कन्नूर जिलों में रेड अलर्ट जारी है. सहाराराजु (55) का शव तमिलनाडु के लापता मछुआरों में से एक कोल्लम जिले में पाया गया था.

तटीय पुलिस ने कहा कि दो अन्य मछुआरे सुरक्षा में तैरने में कामयाब रहे. तटीय पुलिस अधिकारी ने पीटीआई को बताया, 'लापता दो मछुआरों की तलाश जारी है. एक तटरक्षक जहाज और मरीन एनफोर्समेंट की दो नावें उनकी तलाश कर रही हैं.' कोट्टायम जिले की मीनाचिल नदी में लापता हुए मनीष सेबेस्टियन के शव को नौसेना को मिला.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने 21 जुलाई को कासरगोड और इडुक्की जिलों और 22 जुलाई को कोझिकोड, वायनाड और कन्नूर जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है. इसने 23 जुलाई को दक्षिणी राज्य के कन्नूर और कासरगोड जिलों में अत्यधिक भारी वर्षा की भी भविष्यवाणी की है. मौसम विभाग ने कोट्टायम, एर्नाकुलम, त्रिशूर और मलप्पुरम में भी 25 जुलाई तक के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है.

यह भी पढ़ें:  केरल में फिर बाढ़ का खतरा, IMD ने जारी किया रेड अलर्ट

बारिश की तीव्रता हुई कम

हालांकि बारिश की तीव्रता कम हो गई है, लेकिन राज्य के तटीय इलाके में समुद्र उफान पर हैं. तिरुवनंतपुरम जिला प्रशासन ने छह राहत शिविर खोले हैं और तटीय क्षेत्रों से 143 परिवारों को वहां स्थानांतरित किया है. जिला कलेक्टर के. गोपालकृष्णन ने एक विज्ञप्ति में कहा, 'कुल 603 लोग राहत शिविरों में हैं. खाद्य और अन्य आवश्यक चीजें उपलब्ध कराई जा रही हैं.' अधिकारियों ने वेट्टुकडू सेंट मैरी के एलपी स्कूल में अवकाश घोषित किया है, जहां राहत शिविर कार्यरत है.

कन्नूर जिला प्रशासन ने आईएमडी द्वारा जारी किए गए रेड अलर्ट के मद्देनजर सोमवार को पेशेवर कॉलेजों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों के लिए अवकाश घोषित किया है. कोट्टायम जिले में, अधिकांश शैक्षणिक संस्थानों के लिए सोमवार को अवकाश घोषित किया गया है. पथानमथिट्टा जिले में थिरुवल्ला के पास तिरुमूलपुरम में सेंट थॉमस स्कूल में एक राहत शिविर बनाया गया है. यहां भी कल छुट्टी घोषित करने के लिए कहा गया है.
Loading...

यह भी पढ़ें:   IMD का अलर्ट: 11 जुलाई तक इन राज्यों में होगी भारी बारिश

शंकुमुघम बीच से दूर रहने की सलाह

केरल सरकार ने पर्यटकों को खतरे का हवाला देते हुए राज्य की राजधानी तिरुवनंतपुरम में शंकुमुघम बीच से दूर रहने को कहा है. आईएमडी ने मछुआरों को समुद्र में जाने से भी आगाह किया है. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) के सूत्रों के अनुसार, राज्य के तटीय क्षेत्रों के सैकड़ों घरों को खाली करा दिया गया है.

पहाड़ी जिले इडुक्की में, कोननाथडी गांव में शनिवार सुबह एक मामूली भूस्खलन हुआ, जिससे फसल बर्बाद हो गई. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ, लोगों को पहाड़ी क्षेत्रों में यात्रा करने के खिलाफ सलाह दी गई है. मछली पकड़ने के दौरान थिरुवल्ला में मणिमाला नदी में फिसलने के बाद कोशी वर्गीज (53) डूब गए.

नारियल का पेड़ गिरने से हुई मौत

केरल राज्य आपदा प्रबंधन के सूत्रों ने बताया कि कोल्लम के दिलीप कुमार (54) की शुक्रवार को एक नारियल का पेड़ गिरने से मौत हो गई. फोर्ट कोच्चि समुद्र तट पर नहाने गया एक व्यक्ति भी लापता है. निचले इलाकों में रहने वाले और जिनके घरों में पानी भर गया है, उनके लिए कुल 12 राहत शिविर खोले गए हैं. एसडीएमए के अनुसार, राज्य में अब तक 13 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं और 71 आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हैं.

कासरगोड के एक आपदा प्रबंधन अधिकारी ने कहा, 'अब तक, हमने कासरगोड में दो राहत शिविर खोले हैं. लगभग 15 लोगों को वहां स्थानांतरित कर दिया गया है. कई अन्य लोग भी हैं, जिन्होंने अपने रिश्तेदारों के पास जाने का विकल्प चुना है.' केंद्रीय जल आयोग की वेबसाइट में कहा गया है कि राज्य में पेरियार, पंबा और चैलियार नदियों में पानी बढ़ रहा है. उत्तरी कासरगोड जिले में जहां रेड अलर्ट जारी किया गया है, वहां अधिकतम वर्षा 9 सेमी दर्ज की गई, जबकि कन्नूर में कुछ स्थानों पर 9.7 सेमी बारिश हुई.

यह भी पढ़ें:  एक बार फिर केरल में तबाही मचा सकती है बारिश
First published: July 22, 2019, 1:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...