Home /News /nation /

केरल पर कोरोना के बाद अब मंडराया जीका वायरस का खौफ, 10 मामले मिले

केरल पर कोरोना के बाद अब मंडराया जीका वायरस का खौफ, 10 मामले मिले

मच्छरों के माध्यम से फैलने वाला जीका वायरस दिन में ज्यादा सक्रिय रहता है. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

मच्छरों के माध्यम से फैलने वाला जीका वायरस दिन में ज्यादा सक्रिय रहता है. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

Kerala Zike Virus Case: पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) में जांच के लिए गस सैम्पल भेजे गए थे, जिनमें से 10 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

    तिरुवनंतपुरम. केरल में कोरोना वायरस के बाद जीका वायरस के संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है. केरल में जीका संक्रमण के 10 केस सामने आए हैं. सूत्रों ने न्यूज़18 को बताया कि पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) में जांच के लिए 13 सैम्पल भेजे गए थे, जिनमें से 10 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. केरल के स्वास्थ्य मंत्री ने न्यूज़18 से कहा, 'जांच के लिए एनआईवी भेजे गए 19 सैम्पल में से हमें 13 के पॉजिटिव होने का शक है.' मातृभूमि के अनुसार जीका वायरस से संक्रमण के सभी मामले राजधानी तिरुवनंतपुरम में पाए गए हैं.


    जीका वायरस फ्लाविविरिडए वायरस फैमिली से है. मच्छरों के माध्यम से फैलने वाला यह वायरस दिन में ज्यादा सक्रिय रहता है. खासकर गर्भावस्था में महिलाएं इससे ज्यादा संक्रमित हो सकती हैं. जीका वायरस से माइक्रोकेफेली बीमारी होती है जिससे प्रभावित बच्‍चे का जन्‍म आकार में छोटे और अविकसित दिमाग के साथ होता है. वहीं इससे होने वाले ग्‍यूलेन-बैरे सिंड्रोम शरीर के तंत्रिका तंत्र पर हमला करते हैं जिसके चलते लोग लकवा का शिकार हो जाते हैं.


    केरल हाई कोर्ट ने महामारी के दौर में शराब दुकानों में भीड़ पर सरकार को फटकारा


    क्या हैं इसके लक्षण?
    जीका वायरस के लक्षण भी डेंगू और वायरल की तरह ही हैं जैसे कि बुखार, जोड़ों का दर्द, शरीर पर लाल चकत्ते, थकान, सिर दर्द और आंखों का लाल होना. हालांकि इस वायरस का आरएनए अलग तरह का होता है. बता दें कि जीका वायरस एडीज प्रजाति के मच्छरों के काटने से ही फैलता है जो दिन में ही काटते हैं.





    बचाव कैसे करें
    जीका वायरस से बचाव के लिए मच्छरों के काटने से बचें, शरीर का अधिकतम हिस्सा ढक कर रखें, मच्छरदानी का प्रयोग करें, मच्छर पुनर्जनन रोकने के लिए ठहरे पानी को इकट्ठा न होने दें, बुखार, गले में खराश, जोड़ों में दर्द, आंखें लाल होने जैसे लक्षण नजर आने पर अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन और भरपूर आराम करें. स्थिति में सुधार नहीं होने पर फौरन डॉक्टर को दिखाना चाहिए.

    Tags: Kerala, Zika Virus

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर