दलित ईसाई युवक की ऑनर किलिंग मामला : 10 दोषियों को दोहरी उम्रकैद

News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 2:42 PM IST
दलित ईसाई युवक की ऑनर किलिंग मामला : 10 दोषियों को दोहरी उम्रकैद
23 वर्षीय दलित ईसाई युवक की हत्या

केरल के कोट्टायम में 'ऑनर किलिंग' का एक मामला सामने आया है. इस मामले में 23 वर्षीय दलित ईसाई युवक की हत्या कर दी गई इस घटना में पुलिस पर भी कई सवाल खड़े हो रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2019, 2:42 PM IST
  • Share this:
एक स्थानीय अदालत ने 23 वर्षीय दलित ईसाई युवक की सम्मान की खातिर हत्या करने के जुर्म में मंगलवार को 10 दोषियों को दोहरी उम्रकैद की सजा सुनायी. यह घटना केरल के कोट्टायम की है जहां लव मैरिज के दो दिन बाद ही 23 वर्षीय पति का अपहरण और हत्या का केस सामने आया है. इस घटना के विरोध में समूचे राज्य में व्यापक प्रदर्शन हुआ था.

मृतक दलित ईसाई परिवार से था, जो इलेक्ट्रिशियन का काम करता था. मृतक ने दो दिन पहले ही लड़की के परिवार के खिलाफ जाकर लव मैरिज की थी. दो दिन बाद केविन जोसेफ की लाश केरल के कोट्टायम में बरामद हुई. बताया जा रहा है कि युवक के शरीर पर धारदार हथियारों से हमले के निशान हैं. युवक के परिवार का आरोप है कि उसे उसकी बीवी के परिवार ने उसे किडनेप किया था.

प्रधान सत्र न्यायाधीश ने 22 अगस्त को अपने फैसले में कहा कि केविन पी जोसेफ की पत्नी के रिश्तेदारों ने उसकी हत्या की जो ऑनर किलिंग का मामला है.

केविन को जिले के मन्न्नम में एक रिश्तेदार के साथ अगवा कर लिया गया था. 28 मई (सोमवार) सुबह केविन का शव कोल्लम जिले के चलियाक्कारा में एक नदी में मिला था जिसके शरीर पर हथियार से मारने के निशान भी हैं. इतना ही नहीं रविवार को मृतक की पत्नी ने रविवार को पति के घर न पहुंचने पर अपने भाई के खिलाफ पुलिस में शिकायत की थी कि पति का अपहरण हुआ है. लेकिन पुलिस ने रविवार को भी नीनू की नहीं सुनी. नीनू की हालात पति की मौत के बाद से खराब है जिसकी वजह से वह पास के अस्पताल में भर्ती है.

इस घटना को लेकर राज्य में विरोध प्रदर्शन हुए थे. पीड़ित के पिता ने आरोप लगाया था कि पुलिस की लापरवाही के कारण ही उनके बेटे की मौत हुई क्योंकि पुलिस ने उसकी पत्नी की शिकायत के आधार पर जांच नहीं की. केविन और उसकी पत्नी ने परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर एट्टूमनूर के रजिस्ट्रार कार्यालय में शादी की थी.

विशेष सरकारी वकील सी एस अजयन ने यहां पत्रकारों को बताया कि सभी 10 आरोपी भारतीय दंड संहिता की धाराओं 302 (हत्या), 364 ए (फिरौती के लिये अपहरण) एवं 506 (2) (आपराधिक धमकी के लिये सजा) के तहत दोषी पाये गये. उन्हें दोहरी उम्रकैद की सजा सुनायी गयी है. प्रमुख आरोपी केविन का साला स्यानु चाको सहित तीन लोगों को आईपीसी की धारा 120 (बी) (आपराधिक साजिश) के तहत भी दोषी ठहराया गया है.

इस मामले में 14 लोग आरोपी थे. केविन के ससुर चाको समेत चार लोगों को सबूत के अभाव में बरी कर दिया गया.
Loading...

इसे भी पढ़ें : 8 साल के बच्चे की बेदम पिटाई हुई ताकि उसका डिप्रेशन चला जाए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 2:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...