• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • ख़ैबर पख्तूनख्वा के आतंक की फैक्ट्री हक्कानिया यूनिवर्सिटी के VC का वीडियो, दारुल उलूम देवबंद से बताया रिश्ता

ख़ैबर पख्तूनख्वा के आतंक की फैक्ट्री हक्कानिया यूनिवर्सिटी के VC का वीडियो, दारुल उलूम देवबंद से बताया रिश्ता

दारूल उलूम हक़्क़निया यूनिवर्सिटी के वीसी और दारूल उलूम देवबंद के एक सदस्य.

दारूल उलूम हक़्क़निया यूनिवर्सिटी के वीसी और दारूल उलूम देवबंद के एक सदस्य.

Khyber Pakhtunkhwa Haqqania University: हामिद उल हक़ के दारूल उलूम देवबंद के छात्रों को कथित तौर से संबोधित करने के मामले की जांच अभी तक नही हो पाई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. पाकिस्तान के ख़ैबर पख्तूनख्वा के दारूल उलूम हक़्क़निया यूनिवर्सिटी,अकोड़ा खट्टक,जिसे आतंक की फैक्ट्री के नाम से भी जाना जाता है, के  वाईस चांसलर हामिद उल हक़्क़ानी का एक वीडियो सामने आया है. आरोप है कि हक़्क़निया यूनिवर्सिटी के वाईस चांसलर का ये वीडियो 7 दिसंबर,2020 के दारूल उलूम देवबंद के एक ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस में शिरकत और संबोधन का है. वीडियो में हक़्क़ानी दारुल उल देवबंद से पुश्तों पुराने रिश्तों की बात करता नजर आ रहा है.

News18 इंडिया ने जब दारुल उलूम देवबंद के प्रवक्ता अशरफ उस्मानी से फ़ोन पर बात की, तो उन्होंने कहा कि “न तो हमने इस तरह का कोई ऑनलाइन कांफ्रेंस आयोजित किया और न ही हमारा इससे कोई लेना देना है. हालांकि उन्होंने इस बात को माना कि जो वीडियो के अंत में में दो शख्स हामिद हक़्क़ानी को वोट ऑफ थैंक्स देते दिख रहे हैं. उनमें से एक दारूल उल देवबंद का पूर्व छात्र रह चुका है और अपना एक संगठन चलाता है. दूसरे शख्स की पहचान के बारे में उन्होंने कुछ भी पता नहीं होने की बात कही.”

क्या मारा गया मुल्ला बरादर? तालिबान ने जारी किया ऑडियो संदेश

हामिद उल हक हक़्क़ानी ‘दिफ़ा ए पाकिस्तान काउंसिल’ का मौजूदा चेयरमैन भी है. वैश्विक आतंकी और लश्कर ए तैय्यबा का सरगना हाफिज सईद इसका फाउंडर चेयरमैन रह चुका है. हक़्क़ानी समी उल हक का बेटा है जिसे “फ़ादर ऑफ तालिबान” कहा जाता है. हामिद उल हक़ के दारूल उलूम देवबंद के छात्रों को कथित तौर से संबोधित करने के मामले की जांच अभी तक नही हो पाई है.

तालीबानी प्रवक्ता ने कहा- सालों तक मैं अमेरिका की नाक के नीचे रहा, वो पकड़ न पाए

उत्तर प्रदेश के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस मसले को संवेदनशील बताते हुए फिलहाल किसी भी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. अफ़ग़ानिस्तान के सीनियर काउंटर टेरर एक्सपर्ट अफगानिस्तान रिपब्लिक साल्वेशन फ्रंट के चीफ अज़मल सोहैल ने न्यूज़ 18 इंडिया से बातचीत में बताया कि हक़्क़ानी नेटवर्क ने बड़ी संख्या में अफ़ग़ानिस्तान के शिक्षण संस्थानों में भी छात्रों को कट्टरपंथी बनाया है.”

तालिबान का पाकिस्तानी रुपये में कारोबार से इनकार, कहा-हम अपने हित जरूर देखेंगे

काउंटर टेरर एक्सपर्ट डॉक्टर रितुराज माटे के  मुताबिक संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका दोनों ने हक़्क़ानी नेटवर्क को आतंकी संगठन करार दे रखा है. ऐसे में दारूल उलूम देवबंद जैसे शिक्षण संस्थानों के साथ हक़्क़ानी की टेरर फैक्ट्री के इंटरेक्शन का कोई मतलब आसानी से समझा जा सकता है.

दारूल उलूम हक़्क़निया को हक़्क़निया यूनिवर्सिटी के नाम से भी जाना जाता है. ये मुल्ला उमर, हाफिज सईद, मसूद अजहर, मुल्ला उमर के बेटे मुल्ला मुहम्मद याकूब, जो अफ़ग़ानिस्तान का मौजूदा डिफेंस मिनिस्टर है जैसे आतंक के किरदारों को पैदा करने के लिए जाना जाता है.

खुफ़िया सूत्रों के मुताबिक हक़्क़निया यूनिवर्सिटी हर साल तकरीबन 4000 इस्लामिक कट्टरपंथी पैदा करती है. खुफ़िया एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक पाक ISI कंट्रोल्ड हक़्क़ानी नेटवर्क लगातार देश के इस्लामी सेमिनरीज के बीच घुसपैठ की कोशिश में है ताकि युवाओं को गुमराह कर इस्लामिक कट्टरपंथ को बढ़ावा दिया जा सके.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज