• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • एशियाई शेरों को बचाने का संदेश देंगे 12 लाख ‘शावक’

एशियाई शेरों को बचाने का संदेश देंगे 12 लाख ‘शावक’

वर्ल्ड लॉयन डे के लिए फुल ड्रेस रिहर्सल करते बच्चे

वर्ल्ड लॉयन डे के लिए फुल ड्रेस रिहर्सल करते बच्चे

गिर का वन्यजीव अभयारण्य एशियाई शेरों का अंतिम आश्रय है. इसमें 2015 की आखिरी गणना के मुताबिक कुल 523 शेर हैं.

  • Share this:
    (विजयसिंह परमार)

    सौराष्ट्र के 12 लाख स्कूली बच्चे शेरों के मुखैटे पहन कर शेरों के संरक्षण का संदेश देंगे. गिर अभयारण्य के आस पास के पांच जिलों के बच्चे 10 अगस्त को वर्ल्ड लॉयन डे के मौके पर शेरों के संरक्षण की शपथ भी लेंगे.

    जूनागढ़ वन्यजीव सर्कल के चीफ फॉरेस्ट कंजर्वेटर डी टी वसावडा ने न्यूज 18 को बताया कि ये शेरों के संरक्षण के लिए एक बहुत बड़ा आयोजन किया जाएगा. इसमें यहां के गांवों के बच्चे बड़ी संख्या में शामिल होंगे. उनका कहना है- “बच्चे भविष्य के नागरिक हैं लिहाजा हम उनको इस मौके पर शेर और दूसरे वन्यजीवों के प्रति जागरुक बनाना चाहते हैं. हम इसमें गांव के लोगों को भी शामिल करेंगे.”

    अभयारण्य के अधीक्षक डॉक्टर मोहनराम ने बताया –“हमने खासतौर से डिजाइन किए गए बैनर स्कूलों को भेज दिए हैं. पांच जिलों के 4500 स्कूलों के 12 लाख बच्चे अपने अपने इलाके में रैलियां निकालेंगे. ये वो इलाके हैं जिनमें शेर मिलते हैं और उन्हें शेरों को बचाने के लिए जागरुक करना है.”

    एक संदेश- शेरों को बचाना है


    डॉक्टर मोहन राम ने ये भी कहा कि रैली के बाद बच्चे अपने अपने स्कूलों में जाएंगे. सभी 4500 स्कूलों में उन्हें शेर पर बनाई गई फिल्म दिखाई जाएगी. छात्र स्कूलों में शेरों के संरक्षण पर बोलेंगे भी और आखिरी में शपथ लेंगे.

    राज्य का वन विभाग 2016 से वर्ल्ड लॉयन डे मना रहा है और साल दर साल इसका दायरा बढ़ा है. गिर का वन्यजीव अभयारण्य एशियाई शेरों का अंतिम आश्रय है. इसमें 2015 की आखिरी गणना के मुताबिक कुल 523 शेर हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज