• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • मसूद अजहर ने किस कदर फैला रखा है टेरर नेटवर्क? कश्मीर में मारे गए जैश आतंकी का फोन खंगाल रहीं एजेंसियां

मसूद अजहर ने किस कदर फैला रखा है टेरर नेटवर्क? कश्मीर में मारे गए जैश आतंकी का फोन खंगाल रहीं एजेंसियां

मसूद उन तीन आतंकियों में एक है जिसे 1999 के कंधार विमान अपहरण घटना के बाद भारतीय अधिकारियों ने रिहा किया था. (फाइल फोटो)

मसूद उन तीन आतंकियों में एक है जिसे 1999 के कंधार विमान अपहरण घटना के बाद भारतीय अधिकारियों ने रिहा किया था. (फाइल फोटो)

मसूद अजहर ने पाकिस्तान के बहावलपुर आतंक का पूरा साम्राज्य खड़ा कर रखा है. इस नेटवर्क में उसके परिवार के कई सदस्य शामिल हैं. इसी नेटवर्क का इस्तेमाल कर भारत में आतंकी हमलों को अंजाम दिया जाता है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर में जैश आतंकी इस्माइल अल्वी (Ismail Alvi) के एनकाउंटर के दौरान मिले तीन आई फोन के जरिए सुरक्षा एजेंसियां मसूद अजहर (Masood Azhar) के आतंकी साम्राज्य का नेटवर्क खंगाल रही हैं. सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ सुरक्षा एजेंसियां इन तीनों मोबाइल फोन की फॉरेंसिक जांच के जरिए मसद अजहर का पूरा कच्चा चिट्ठा निकाल रही हैं. दरअसल मसूद अजहर ने पाकिस्तान के बहावलपुर आतंक का पूरा साम्राज्य खड़ा कर रखा है. इस नेटवर्क में उसके परिवार के कई सदस्य शामिल हैं. इसी नेटवर्क का इस्तेमाल कर भारत में आतंकी हमलों को अंजाम दिया जाता है.

    दरअसल पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले में शामिल आतंकवादी इस्माइल अल्वी उर्फ सैफुल्ला को दो दिन पहले स्थानीय लोगों के इनपुट के बाद सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया था. अल्वी को लंबू और अदनान जैसे नामों से भी जाता था. खबरों के अनुसार, लंबू की हरकतों से स्थानीय लोग डरे रहते थे और उसके मूवमेंट की जानकारी सेना को दे दी गई.

    क्या बोले विक्टर फोर्स के जनरल ऑफिसर कमांडिंग
    जैश सरगना मसूद अजहर के परिवार से रिश्ता रखने वाला लंबू को सुरक्षाबलों ने घेरकर ढेर कर दिया. विक्टर फोर्स के जनरल ऑफिसर कमांडिंग मेजर जनरल रशीम बाली ने बताया था, ‘हमें जम्मू-कश्मीर पुलिस और स्थानीय लोगों से लंबू के मूवमेंट के बारे में जानकारी मिल रही थी. त्राल इलाके में वह लोगों के साथ बुरा बर्ताव करता था.’ गौरतलब है कि पुलवामा में ही समीर डार नामक एक और आतंकी मारा गया था. वह लेथपोरा आतंकी हमले में शामिल था और उसका नाम NIA के चार्जशीट में भी था.

    तालिबान से ट्रेनिंग
    सैफुल्ला ने तालिबान से आतंक की ट्रेनिंग ली. रिपोर्ट्स के अनुसार, वह IED तैयार करने में माहिर था. उसने भारत में 2017 में घुसपैठ की थी. इसके बाद से ही वह घाटी में लगातार सक्रिय था. अदनान को पाकिस्तान के आतंकी संगठन JeM के शीर्ष रउफ अजहर, मौलाना मसूद अजहर और अमार के बड़े सहयोगियों में गिना जाता था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज