अपना शहर चुनें

States

Kisan Aandolan: विरोध के दौरान बच्चों की पढ़ाई न हो खराब इसलिए इन्होंने लगवा दिया WiFi

बसंत कुंज के युवा समाजसेवी अभिषेक जैन ने उनके लिए वाई-फाई लगवा दिया है.
बसंत कुंज के युवा समाजसेवी अभिषेक जैन ने उनके लिए वाई-फाई लगवा दिया है.

बसंत कुंज के युवा समाजसेवी अभिषेक जैन ने बच्चों की पढ़ाई के लिए वाई-फाई (WiFi) लगवा दिया है. अब बड़ी संख्या में बच्चे उसका इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने यूजर आईडी और पासवर्ड वहां पोस्टर पर लिखकर टांग दिया है ताकि कोई भी जरूरतमंद इसका इस्तेमाल कर सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 1:52 AM IST
  • Share this:
दिल्ली. केंद्र सरकार की नई कृषि नीतियों (New Agriculture Law 2020) के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन अभी भी जारी है. सिंधु बॉर्डर पर किसान आंदोलन (Farmer protest) के बीच सभी अपने तरीके से मदद पहुंचा रहे हैं. आंदोलन में बड़ी संख्या में बच्चे भी शामिल हुए हैं. अपनी मांग और नारों के बीच बच्चे समय निकाल कर ऑनलाइन पढ़ाई (Online Class) भी कर रहे हैं. इसको देखते हुए बसंत कुंज के युवा समाजसेवी अभिषेक जैन ने उनके लिए वाई-फाई (WiFi) लगवा दिया है. अब बड़ी संख्या में बच्चे उसका इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने यूजर आईडी और पासवर्ड वहां पोस्टर पर लिखकर टांग दिया है ताकि कोई भी जरूरतमंद इसका इस्तेमाल कर सके.

अभिषेक ने बताया कि किसान हैं, तभी हम हैं. ऐसे में जब किसान सड़क पर आंदोलन कर रहे हैं तो उसमें हर किसी को सहयोग करना चाहिए. यहां मैंने बड़ी संख्या में बच्चों को देखा है. कई तो समय निकाल कर पढ़ाई भी कर रहे हैं. मुझे लगा कि अगर इन्हें फ्री डेटा की मदद मिल जाए तो उनके काम आ सकते हैं. इसलिए उन्होंने यहां वाई-फाई लगवा दिया है. उन्होंने बताया कि अगर जरूरत पड़ी तो कुछ और जगहों पर वह लगाएंगे. ताकि जो लोग घर से बाहर हैं, वह इस फ्री डेटा का इस्तेमाल कर घरों में बात कर सकें. बीते चार दिनों से वह लगातार वहां आ रहे हैं. राशन-पानी की मदद वह किसानों को पहुंचा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: Kisan Aandolan: गाजीपुर बॉर्डर पर डटे किसानों को मिली दवा, डॉक्टर ने किया चेकअप 



पहले भी कर चुके हैं ऐसा काम
अभिषेक ने इससे पहले दिल्ली के वसंत बिहार के दो स्लम एरिया नेपाली कैंप और भंवरसिंह कैंप में फ्री वाई-फाई लगवाई है. हर दिन 100 से अधिक बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई के लिए इसका लाभ ले रहे हैं.



किसानों को मिली दवा

गाजीपुर सीमा  पर मौजूद किसानों को वॉलंटियर्स की टीम ने दवाई बांटी. आंदोलन कर रहे किसानों का चेकअप भी किया गया. किसानों की जांच करने आए डॉक्टर का कहना है कि ज्यादातर मरीज को गैस्ट्रिक और शरीर में दर्द की समस्या है. यह पहला दिन है जो हम यहां आए हैं. हमने अब तक लगभग 100 मरीजों का इलाज कर चुके हैं.

इधर सिंघु बॉर्डर पर पंजाब से घोड़े आए हैं. यह घोड़े ट्रकों में लाए गए हैं. अभी 40 से 50 घोड़े आए हैं. लेकिन किसानों का कहना है कि अगर जरूरत पड़ी तो और भी मंगवाएंगे. घोड़ों के साथ पंजाब से कुछ और लोग भी आए हैं. घोड़ों के बारे में जब किसानों से पूछा गया तो उनका कहना था, पुलिस हमें दिल्ली  में नहीं जाने दे रही है. हर तरफ बैरिकेड लगा दिए हैं. अगर जरूरत पड़ी तो हम घोड़ों पर सवार होकर बैरिकेड लांघेंगे. लेकिन मांगें नहीं माने जाने पर हम दिल्ली जरूर जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज