अपना शहर चुनें

States

Kisaan Andolan: सरकार से बातचीत के लिए समिति गठित करेंगे किसान नेता, अमित शाह से मिले नरेंद्र तोमर

राकेश टिकैत ने कहा कि हमें नजर रखनी होगी कि हमारे बीच गलत लोग न आ जाएं. (फोटो: ANI)
राकेश टिकैत ने कहा कि हमें नजर रखनी होगी कि हमारे बीच गलत लोग न आ जाएं. (फोटो: ANI)

Farmers Protest: भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा, 'हमें नजर रखनी होगी कि हमारे बीच गलत लोग न आ जाएं. हमारे सभी युवाओं को सतर्क रहना होगा.' अगर सरकार बात करना चाहती है, तो हम एक समिति गठित करेंगे और आगे के फैसले लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2020, 7:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली की सरहदों पर किसानों का प्रदर्शन थमा नहीं है. सरकार के मंत्रियों के बीच भी बातचीत का दौर जारी है. केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ जारी किसानों के प्रदर्शन के बीच केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) और सोमप्रकाश ने रविवार को गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से मुलाकात की. यह जानकारी अधिकारियों ने दी. वहीं, किसान नेता राकेश टिकैत ने प्रदर्शनों में गलत लोगों के शामिल होने पर सतर्क रहने की बात कही है.

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा, 'हमें नजर रखनी होगी कि हमारे बीच गलत लोग न आ जाएं. हमारे सभी युवाओं को सतर्क रहना होगा.' अगर सरकार बात करना चाहती है, तो हम एक समिति गठित करेंगे और आगे के फैसले लेंगे.

पंजाब के बीजेपी नेता भी थे शामिल
इस मुलाकात में मंत्रियों के साथ पंजाब के भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता भी शामिल थे. एक अधिकारी ने बताया कि तोमर और सोमप्रकाश ने गृह मंत्री से मुलाकात की. हालांकि, अभी तक यह अभी पता नहीं चल सका है कि बैठक में क्या बातचीत हुई. कृषि मंत्री तोमर, सोमप्रकाश और पीयूष गोयल ने प्रदर्शनकारी किसानों के साथ वार्ता में सरकार का नेतृत्व किया था.
यह भी पढ़ें: विपक्षियों पर भड़के रविशंकर प्रसाद, कहा- पहले कानूनों का समर्थन करने वाले अब विरोध कर रहे



इधर कृषि मंत्री से मिले उत्तराखंड के किसान
एक ओर पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली की सरहदों पर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं, दूसरी ओर उत्तराखंड के किसान नए कृषि कानूनों के समर्थन में उतर आए हैं. रविवार को राज्य के किसानों ने दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की. इस दौरान कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी और उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे भी मौजूद रहे.

राष्ट्रपति से मुलाकात कर चुके हैं विपक्षी दलों के नेता
बुधवार को विपक्षी दलों के एक समूह ने किसान आंदोलनों को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) से मुलाकात की थी. इस मुलाकात में ज्यादातर कांग्रेस और वाम दल के नेता थे. मुलाकात के बाद वाम दल के नेता सीताराम येचुरी ने कहा, 'हमने गैर लोकतांत्रिक तरीकों और बगैर स्पष्ट चर्चा के पास हुए कृषि कानूनों और विद्युत संशोधन बिल को वापस लेने के लिए राष्ट्रपति के पास जाने का फैसला किया है.'

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा था 'बीते 13 दिनों से वे ठंड में शांति से बैठे हुए हैं और नाराजगी जता रहे हैं. उन्होंने कहा था '' विपक्ष या देश को बनाने वाले किसानों सेृ बगैर किसी चर्चा के जिस तरह से यह बिल पास हुए और लागू कर दिए गए, हम इसे किसानों का अपमान समझते हैं.'

(भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज