ट्रिपल मर्डर केस: मां-बाप से डांट का बदला लेने को बेटे ने ही की थी हत्या

देर रात क़रीब 3 बजे जब पूरा परिवार गहरी नींद में था, तब सूरज अपने बिस्तर से उठकर अपने माता-पिता के कमरे में गया. इसके बाद उसने अपने पिता को चाक़ू से गोदना शुरू कर दिया

News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 12:32 AM IST
News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 12:32 AM IST
साउथ दिल्ली के किशनगढ़ इलाक़े में एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या की गुत्थी को पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है. पुलिस का दावा है कि ये हत्या मां-बाप से डांट का बदला लेने के लिए की गई. दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली के डीसीपी देवेंद्र यादव ने बताया कि सूरज नाम के लड़के ने ही अपने मां-बाप और बहन की हत्या की.

पुलिस ने एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या की गुत्थी 24 घंटे में ही सुलझा ली. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया. आरोपी से पूछताछ में कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, इस ट्रिपल मर्डर के पीछे 'नफ़रत' एक बड़ी वजह थी. आरोपी सूरज अपने माता-पिता की डांट और बहन की शिकायतों से तंग आ गया था. इससे छुटकारा पाने के लिए उसने एक साल पहले ही तीनों की हत्या करने की ठान ली थी.

ट्रिपल मर्डर का आरोपी सूरज सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था. लेकिन नशे की लत ने उसे इस कदर बिगाड़ दिया था कि उसने कॉलेज जाना तक छोड़ दिया था. उसके इसी व्यवहार को लेकर परिवार में अक्सर झगड़े होते थे. बाद में यही झगड़े सूरज की नफ़रत में बदल गए. बुधवार को जब ट्रिपल मर्डर की ये वारदात हुई, तब सूरज घर में ही मौजूद था.

लेकिन वारदात की जो कहानी सूरज ने पुलिस को सुनाई, उस पर किसी को यकीन नहीं हुआ. सूरज ने दावा किया था कि लूट के मकसद से मकान में दाखिल हुए दो बदमाशों ने उसके माता-पिता और बहन की हत्या की. पुलिस ने मामले की जांच की तो पता चला कि मकान में लूटपाट हुई ही नहीं है. बल्कि जिस चाक़ू से वारदात को अंजाम दिया गया वो बिस्तर के नीचे छिपाकर रखा गया था. इस पर पुलिस को सूरज पर शक हुआ. पुलिस ने सूरज से पूछताछ की तो सारी सच्चाई सामने आ गई.

पुलिस ने दावा किया कि आरोपी सूरज ने अपने माता-पिता से उनकी डांट का बदला चाक़ू से 26 वार करके लिया. हत्या में जिस चाकू का सूरज ने इस्तेमाल किया वो उसने अपने मकान से कुछ दूर महरौली की एक दुकान से खरीदा था.

पुलिस के मुताबिक, वारदात से पहले सबकुछ ठीक था. आरोपी सूरज ने अपने माता-पिता और बहन के साथ खाना भी खाया था. इसके बाद सभी लोग अपने अपने कमरे में सोने चले गए. उस वक़्त आरोपी सूरज ने भी सोने का नाटक किया. देर रात क़रीब 3 बजे जब पूरा परिवार गहरी नींद में था, तब सूरज अपने बिस्तर से उठकर अपने माता-पिता के कमरे में गया.

इसके बाद उसने अपने पिता को चाक़ू से गोदना शुरू कर दिया और चेहरे, सीने और पेट पर आठ वार किए. इसके बाद आरोपी ने अपनी मां को इससे भी बुरी तरह मारा और उस पर 18 बार चाक़ू से वार किया. पुलिस के मुताबिक, जब उसकी बहन ने मदद के लिए शोर मचाया तो आरोपी सूरज ने उसका गला भी चाक़ू से रेत दिया.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर